संवाद सूत्र, बेरीनाग: 108 एंबुलेंस सेवा ठप हो जाने से मंगलवार को बेरीनाग में एक पांच वर्षीय बालक की जान पर बन गई। एक घंटे से अधिक समय तक इंतजार के बाद भी एंबुलेंस नहीं पहुंचने पर परिजन टैक्सी बुककर बालक को अल्मोड़ा ले गए।

कांडे किरौली क्षेत्र निवासी मोहन सिंह के पांच वर्षीय पुत्र को मंगलवार को अचानक सांस की दिक्कत पैदा हो गई। परिजनों ने तत्काल 108 में कॉल किया तो बताया गया कि थल और बेरीनाग दोनों जगहों की एंबुलेंस खराब पड़ी हैं। कांडा से एंबुलेंस भेजी जा सकती है, लेकिन उसमें दो घंटे का समय लगेगा। परेशान परिजनों ने निजी वाहन बुक किया और बालक को बेरीनाग ले जाए। बेरीनाग में चिकित्सकों ने बालक की जांच करने के बाद उसे हायर सेंटर रेफर कर दिया। ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं हो पान के कारण परिजन बालक को जैसे तैसे अल्मोड़ा की ओर ले गए। राईआगर क्षेत्र की एक गर्भवती महिला को भी घंटों इंतजार के बाद भी एंबुलेंस नहीं मिल पाई। परेशान परिजन वाहन बुक कराकर महिला को अस्पताल लाए। ब्लाक प्रमुख रेखा भंडारी ने अति आवश्यकीय सेवा की इस हालत पर गहरी चिंता जताते हुए अविलंब व्यवस्थाओं में सुधार किए जाने की मांग की है। 108 प्रबंधक ने बताया कि बेरीनाग में पेट्रोल पंप का एक लाख रुपया बकाया है। जिसके चलते पेट्रोल पंप संचालक ने तेल देने से इन्कार कर दिया है। समस्या से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है।

Posted By: Jagran