संवाद सहयोगी, पिथौरागढ़: मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ सीबीआइ जांच के हाई कोर्ट के आदेश को विपक्षी दलों ने लपक लिया है। गुरुवार को आम आदमी पार्टी आप ने प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री से इस्तीफा मांगा तो कांग्रेस बोली मुख्यमंत्री ने पद पर रहने का नैतिक आधार खो दिया है।

आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं ने गांधी चौक में धरना प्रदर्शन किया। वक्ताओं ने कहा कि हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप की सीबीआइ जांच का आदेश देना गंभीर मामला है। हाई कोर्ट के इस कदम से भाजपा के जीरो टालरेंस के दावे की पोल खुलकर सामने आ गई है। मुख्यमंत्री को अब अपने पद पर बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। उन्होंने अविलंब अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए। कार्यकर्ताओं ने कहा कि अब इस मामले को आम जनता के बीच ले जाया जाएगा। प्रदर्शन करने वालों में सुशील खत्री, आलोक चौधरी, चंद्रप्रकाश पुनेड़ा, सुरेश जोशी, भावना शर्मा, सरोज देऊपा, लोकेश जोशी, शंकर राम, सुरेश जोशी, नीरज कुमार, दीपक लोहिया आदि शामिल थे।

कांग्रेस के पूर्व प्रांतीय प्रवक्ता भुवन पांडेय ने कहा है कि कांग्रेस को भ्रष्ट कहने वाली भाजपा की हकीकत अब खुलकर सामने आ गई है। प्रदेश के मुख्यमंत्री पर भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे हैं। हाई कोर्ट ने सीबीआइ जांच के आदेश दिए हैं। मुख्यमंत्री को अब अपने पद पर बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस इस मुद्दे पर अब चुप नहीं बैठेंगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस