श्रीनगर गढ़वाल: मढ़ी चौरास में आयोजित शहीदी मेला एवं विकास प्रदर्शनी की पहली सांस्कृतिक संध्या जागरों के नाम रही। मां भगवती के जागरों से शुरू सांस्कृतिक संध्या देर रात तक चली। दीपक कुमार की ओर से प्रस्तुत जागरों और लोकगीतों पर श्रोता पंडाल में जमकर नाचते रहे। गुरुवार को रंगकर्मी डॉ. सुभाष पांडे ने बतौर मुख्य अतिथि दीप प्रज्वजित कर सांस्कृतिक संध्या शुरू की। सांस्कृतिक संध्या छोटा प्रीतम भरतवाण के नाम से प्रचलित दीपक कुमार के नाम रही। उन्होंने मां भगवती., शिव जटा नह्योला., मेरी गजणा, नंदा तेरी जात. आदि लोकगीतों और जागरों की प्रस्तुतियों से श्रोताओं का मन मोह लिया। जागरों और लोकगीतों की प्रस्तुतियों का श्रोताओं ने जमकर आनंद लिया। दीपक कुमार के प्रस्तुत लोकगीतों और जागरों की प्रस्तुतियों ने श्रोताओं को देर रात तक पंडाल में झूमने को मजबूर किया। इस मौके पर मेला आयोजन समिति के अध्यक्ष जयकृष्ण भट्ट पम्मी, सचिव विनोद चमोली, धर्मेंद कैंतुरा, शैलेश मलासी, कमलेश थपलियाल, रामलाल नौटियाल, चंद्रवीर बत्र्वाल, माइकल मोंटी, खुशी, उत्तम भंडारी, आयुष आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस