कोटद्वार, जेएनएन। लैंसडौन वन प्रभाग की कोटद्वार रेंज के अंतर्गत सिगड्डी स्रोत उफान पर है। जिसके चलते तट पर रह रहे वन गुर्जरों के परिवारों की जान मुश्किल में फंस गई। स्रोत का पानी गुर्जर डेरे में भर गया और तीन परिवार पानी के तेज बहाव में फंस गए। मौके पर पहुंची एसडीआरएफ की टीम ने दस वन गुर्जरों को सुरक्षित निकाला। किसी तरह के जान-माल का कोई नुकसान नहीं हुआ। 

दरअसल, कोटद्वार क्षेत्र में बीती रात से सुबह आठ बजे के बीच करीब 20 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। पर्वतीय क्षेत्रों में हुई बारिश के दौरान सुबह करीब पांच बजे अचानक सिगड्डी स्रोत उफान पर आ गया, जिससे लैंसडौन वन प्रभाग की गुलरझाला चौकी से आगे पड़ने वाली वन गुर्जर बस्ती में पानी भरने लगा। बरसाती गदेरे के समीप ही बनी दो झोपड़ियां नदी के तेज बहाव की भेंट चढ़ गई। 

बस्ती की ओर पानी का तेज बहाव आने के बाद दस वन गुर्जर गदेरे में फंस गए। सूचना मिलते ही एसडीआरएफ प्रभारी जयपाल राणा के नेतृत्व में टीम बस्ती पहुंची और गदेरे में फंसे लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला। एसडीआरएफ की ओर से जिन लोगों का रेस्क्यू किया गया, उनमें रोशनदीन, मसरदीन, शमशाद, युसूफ, मोमिन, ईमान, रफी, सराजुद्दीन, इनाम, वजीर शामिल रहे। प्रभारी राणा ने बताया कि नदी के तेज बहाव में वन गुर्जरों की कुछ भैंसे भी बही, लेकिन नदी का जलस्तर घटने पर सभी मवेशी सुरक्षित वापस लौट आए। बताया कि बस्ती में रह रहे तमाम लोगों को सुरक्षित स्थान पर जाने को कहा गया है। 

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड में आफत की बारिश, पत्थर गिरने की वजह से दो घंटे बाधित रही केदारनाथ यात्रा

यह भी पढ़ें: बदला मौसम, कई इलाकों में झमाझम बारिश; बदरीनाथ हाईवे बंद रहने से परेशानी

यह भी पढ़ें: सुपीन नदी ने रोकी रही दो गर्भवती महिलाओं की राह, लौटना पड़ा वापस; पढ़िए पूरी खबर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप