कोटद्वार(पौड़ी गढ़वाल), जेएनएन। पहले देश की सेवा की और अब कोरोना योद्धा के रूप में विभिन्न बैंकों और एटीएम में तैनात होकर पूर्व सैनिक आमजन के लिए मिसाल पेश कर हरे हैं। कई जगह तो ये योद्धा इस संकट में लोगों को जागरूक भी कर रहे हैं।

लॉकडाउन हुआ और प्रशासन ने बाजार बंद करवाकर सिर्फ आवश्यक सेवा से जुड़ी दुकानों को खोलने के निर्देश दे दिए। नतीजा, दुकानों में भीड़ उमड़ने लगी। शुरुआती दौर में प्रशासन ने स्वयं ही व्यवस्थाएं संभालने का प्रयास, लेकिन अप्रैल माह शुरू होते ही बैंकों में भी लोगों की भीड़ बढ़ने लगी और लॉकडाउन को लेकर तय नियमों की धज्जियां उड़ने लगी। ऐसे में फिर वही हाथ प्रशासन की मदद को आगे आए, जो आज तक अपने कंधों में देश की सुरक्षा का जिम्मा उठाए हुए थे। 

सेना से सेवानिवृत्त होकर घर लौटे पूर्व सैनिकों ने प्रशासन की इस समस्या को समझा और स्वयं ही अपने सामाजिक दायित्वों का निर्वहन करने के लिए आगे कदम बढ़ा दिए। वर्तमान में 20 पूर्व सैनिक प्रशासन को अपने सेवाएं दे रहे हैं। प्रशासन की ओर से इन पूर्व सैनिकों को बैंकों व एटीएम में तैनात किया गया है, जहां वे आमजन को फिजिकल डिस्टेंस का अनुपालन करने के लिए निर्देशित कर रहे हैं। साथ ही उन्हें कोरोना के संबंध में जानकारियां देते हुए इससे बचाव के तरीके भी बता रहे हैं।

पूर्व सैनिक सतेंद्र सिंह ने बताया कि देशवासियों की सेवा हमारा कर्तव्य है। अब जब देश कोरोना जैसे संक्रमण से जूझ रहा है, ऐसे में देशवासियों की सुरक्षा का जिम्मा हमारा भी है। पूर्व सैनिक बलवान सिंह रावत का कहना है कि लॉकडाउन में सरकारी सिस्टम पूरी मुस्तैदी से कार्य कर रहा है। ऐसे में हमारा भी फर्ज है कि हम सरकार के साथ जनसेवा को आगे आएं।

पूर्व सैनिक गोपाल सिंह कहते हैं कि कोरोना संक्रमण को लेकर देश में लॉकडाउन है। आमजन परेशान है। मेरा सौभाग्य है कि मैं देशवासियों की सेवा में अपना योगदान दे रहा हूं। वहीं, पूर्व सैनिक प्रताप सिंह रीडीयान का कहना है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए फिजिकल डिस्टेंस जरूरी है। ड्यूटी के दौरान हम आमजन को फिजिकल डिस्टेंस के अनुपालन के लिए ही प्रेरित कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: Positive India: कोरोना से लड़ने को महिलाएं घर पर ही बना रहीं हैं डबल लेयर मास्क

अपर पुलिस अधीक्षक प्रदीप कुमार राय का कहना है कि पूर्व सैनिक स्वेच्छा से अपनी सेवाएं देने के लिए आगे आए, जिसके बाद उन्हें कोरोना फाइटर के रूप में भीड़भाड़ वाले स्थानों में तैनात किया गया है। वर्तमान में बीस पूर्व सैनिक बैंकों और एटीएम में तैनात किए गए हैं। भविष्य में जरूरत पड़ी तो अन्य पूर्व सैनिकों को भी तैनात किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: Positive India: राजेश के चित्र कर रहे हैं कोरोना योद्धओं को सलाम और जनता को जागरूक, आप भी देखें

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस