रोहित लखेड़ा, कोटद्वार

टिहरी राजशाही के खिलाफ आवाज उठाने वाले श्रीदेव सुमन पर बन रही फिल्म 'पहाड़ी रत्न श्री देव सुमन' में सतपुली के रिगवाड़गांव निवासी पद्मेंद्र सिंह रावत चक्रधर जुयाल का रोल निभा रहे हैं। फिल्म की शूटिग हरिद्वार, टिहरी के साथ ही गढ़वाल के विभिन्न क्षेत्रों में की जा रही है। पद्मेंद्र सिंह रावत इससे पूर्व में भी कई गढ़वाली फिल्मों में काम कर चुके हैं।

मूल रुप से सतपुली क्षेत्र के अतंर्गत पट्टी असवालस्यूं के रिगवाड ़गांव निवासी पद्मेंद्र सिंह रावत वर्तमान में दिल्ली पुलिस में इंस्पेक्टर के पद पर तैनात हैं। पहाड़ी फाउंडेशन फिल्मस के बैनर तले बन रही 'पहाड़ी रत्न श्री देव सुमन' में उन्हें चक्रधर जुयाल का रोल दिया गया है। पद्मेंद्र सिंह रावत ने बताया कि उत्तराखंड की धरती वीरों की धरती है। अमर शहीद श्री देव सुमन, माधो सिंह भंडारी, गौर देवी सहित कई विभूतियों ने इस देवभूमि में जन्म दिया। रावत ने बताया कि 30 मई 1930 को टिहरी के रवाईं क्षेत्र की जनता अपने हक-हकूकों की मांग को लेकर तिलाड़ी में आंदोलन कर रही थी। यहां टिहरी राजशाही के अफसर चक्रधर जुयाल ने इन आंदोलनकारियों पर गोलियां चलवाई। इस गोलीकांड में कई जन मारे गए, जबकि कई घायल हुए। इस घटना की तुलना जलियावाला बाग कांड से की गई व चक्रधर जुयाल खुद की तुलना जनरल डायर से करने लगा। रावत ने बताया कि इस फिल्म के निर्माता विक्रम नेगी पहाड़ी हैं। पद्मेंद्र सिंह रावत बालीवुड की फिल्म भंवरे के साथ ही टीवी सीरियल क्राइम पेट्रोल, एयरलाइंस के साथ ही दस से अधिक गढ़वाली फिल्मों में काम कर चुके हैं। रावत को गढ़वाली फिल्मों में बेस्ट खलनायक के लिए उत्तराखंड सिने अवार्ड में मिल चुका है।

Edited By: Jagran