कोटद्वार, जेएनएन। नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत सिम्मलचौड़ में अज्ञात बदमाशों ने एक सिटी केबल कर्मचारी की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना के बाद पुलिस ने पूरे क्षेत्र में नाकाबंदी कर आरोपितों की तलाश शुरू कर दी है, वहीं घटनास्थल के आसपास सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले जा रहे हैं। दिनदहाड़े हुई इस घटना से क्षेत्र में सनसनी फैली हुई है। इस बीच, पुलिस ने घटना की जांच शुरू कर दी है। सीसीटीवी फुटेज में दो युवक गोली मारते हुए दिखाई दिए हैं।

दरअसल, नगर में संचालित शिवा केबल नेटवर्क में काम करने वाला हरिद्वार बाईपास रोड, धर्मपुर (देहरादून) निवासी शेखर चंद्र ढौंडियाल (44 वर्ष) पुत्र रमेश चंद्र अपराह्न करीब साढ़े तीन बजे केबल के कंट्रोल रूम के बाहर खड़ा फोन पर बात कर रहा था। इसी दौरान अचानक फायरिंग की आवाज सुन कंट्रोल रूम में मौजूद कर्मी जैसे ही बाहर आए, तो शेखर को लहूलुहान हालत में जमीन पर पड़ा देखा। कर्मचारी तत्काल शेखर को लेकर बेस चिकित्सालय में पहुंचे, जहां उपचार के दौरान शेखर ने दम तोड़ दिया। चिकित्सकों ने बताया कि शेखर की छाती के दाहिनी ओर वाले हिस्से में गोली लगी है। 

इधर, फायरिंग की सूचना मिलते ही कोतवाली पुलिस में हड़कंप मच गया। पुलिस की अलग-अलग टीमें हमलावरों की तलाश में क्षेत्र में निकल पड़ी। साथ ही घटनास्थल के आसपास के क्षेत्रों में सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले जा रहे हैं। पूरे क्षेत्र में नाकाबंदी कर पुलिस आरोपितों की तलाश में जुटी हुई है। बताया जा रहा है कि हमलावर तीन युवक थे, जो कि पैदल ही कंट्रोल रूम के समीप पहुंचे और कंट्रोल रूम के बाहर खड़े शेखर को गोली मारकर मौके से भाग गए। 

कोतवाल मनोज रतूड़ी ने बताया कि शेखर कुछ दिन पूर्व ही शिवा केबिल में काम पर लगा था। इससे पहले वह कोटद्वार में ही एक डायलिसिस सेंटर में काम करता था। बताया कि शेखर ने स्टार नेटवर्क में भी काम किया था। इधर, अपर पुलिस अधीक्षक प्रदीप कुमार राय ने बताया कि अभी तक मामले में कोई तहरीर नहीं दी गई है। बताया कि अभी तक हुई जांच में कोटद्वार क्षेत्र में शेखर की दुश्मनी से संबंधित कोई बात प्रकाश में नहीं आई है। बताया कि देहरादून में पुलिस से संपर्क कर शेखर का रेकार्ड खंगाला जा रहा है।

पुलिस को दी खुली चुनौती

कोटद्वार में मंगलवार शेखर को जहां गोली मारी गई, उसे पुलिस के लिए बदमाशों की खुली चुनौती कहा जा सकता है। दरअसल, जिस जगह शेखर को गोली मारी, वहां समीप ही अपर पुलिस अधीक्षक और पुलिस उपाधीक्षक के आवास हैं। साथ ही इस क्षेत्र में न्यायालय परिसर भी है, जहां पूरे दिन पुलिस की पिकेट तैनात रहती है। समीप ही सहायक संभागीय परिवहन कार्यालय भी है और वहां भी पूरे दिन लोगों की आवाजाही बनी रहती है। ऐसे में दिनदहाड़े किसी व्यक्ति को गोली मारकर फरार होना पूरी तरह पुलिस कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगाता नजर आता है।

यह भी पढ़ें: प्रेमिका ने भाइयों के साथ मिलकर युवक को उतारा मौत के घाट, वजह जान आप भी चौंक जाएंगे

यह भी पढ़ें: शराब के नशे में कहासुनी के बाद साथी ने ट्रक चालक का सिर कुचल की थी हत्या, चढ़ा हत्थे

यह भी पढ़ें: तीन मासूमों की मौत के बाद जिंदगी की जंग हार गई मां

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप