संवाद सहयोगी, लैंसडौन: प्रशासन ने ईद-उल-अजहा (बकरीद) के मौके पर मस्जिद में नमाज व कुर्बानी पर पाबंदी लगा दी है। साथ ही जन्माष्टमी में नगर में लगने वाले मेले पर भी रोक लगाई गई है।

तहसील में एसडीएम अपर्णा ढौंडियाल की अध्यक्षता में हुई बैठक में त्योहारों के सीमित आयोजन पर चर्चा की गई। बैठक में एसडीएम ने कहा कि सरकार की गाइड लाइन के अनुसार सभी त्योहारों के सार्वजनिक आयोजन पर पाबंदी लगाई गई है। जामा मस्जिद के पदाधिकारियों को एसडीएम ने निर्देश दिए कि बकरीद के मौके पर मस्जिद में न तो नमाज अदा की जाएगी, और न ही कुर्बानी होगी। उन्होंने सभी से अपने घरों में कुर्बानी देने व नमाज अदा करने का आह्वान किया।

बैठक में सत्यनारायण मंदिर समिति के पदाधिकारियों को जन्माष्टमी के मौके पर मंदिर में कृष्ण जन्मोत्सव पर मेला आयोजित न करने के निर्देश दिए गए। साथ ही मंदिर से प्रसाद वितरित न करने को भी कहा गया। समिति के अनुरोध पर एसडीएम ने रामडोल यात्रा में पांच व्यक्तियों को शामिल करने को कहा। बैठक में रक्षा बंधन के त्योहार के मद्देनजर हलवाई व राखी की दुकानों में सामाजिक दूरी का पालन न करने पर ग्राहकों के साथ ही व्यापारी का भी चालान काटने की बात कही गई। बैठक में कोतवाली प्रभारी निरीक्षक संपूर्णानंद गैरोला को गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए गए। बैठक में तहसीलदार हरीश जोशी, कैंट सफाई निरीक्षक दीपक मिश्रा, व्यापार मंडल सचिव गुलाब सिंह, सत्यनारायण मंदिर के अध्यक्ष जगदीश अग्रवाल, अजय अग्रवाल, जामा मसजिद के अध्यक्ष कमर खान आदि मुख्य रूप से मौजूद थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस