संवाद सहयोगी, लैंसडौन: थल सेना की जनरल ड्यूटी की लिखित परीक्षा तकनीकी कारणों के चलते स्थगित कर दी गई है। इससे गढ़वाल के विभिन्न जनपदों से आए हजारों युवाओं को मायूस होकर लौटना पड़ा। रविवार को लैंसडौन के गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंट सेंटर में थल सेना की जनरल ड्यूटी की लिखित परीक्षा होनी थी। इस परीक्षा में 3708 युवा शामिल थे। परीक्षा के लिए बड़ी संख्या में युवाओं के साथ उनके स्वजन भी गढ़वाल के विभिन्न हिस्सों से यहां पहुंचे थे।

शनिवार देर रात्रि साढ़े ग्यारह बजे इन युवाओं को भवानी दत्त परेड ग्राउंड में रिपोर्ट करने का समय दिया गया था। नियत समय पर सभी युवा अपनी तैयारियों के साथ परीक्षा के लिए निर्धारित स्थल पर पहुंच गए थे, लेकिन रविवार सुबह तकनीकी कारणों के चलते परीक्षा स्थगित कर दी गई। इसकी सूचना मिलते ही युवाओं में मायूसी छा गई। युवाओं को सेना की ओर से जल्द ही नई परीक्षा तिथि घोषित होने के बाद इसकी सूचना देने की बात कही गई है। सेना भर्ती कार्यालय के भर्ती निदेशक कर्नल विनीत वाजपेयी ने बताया कि लिखित परीक्षा तकनीकी कारणों के चलते स्थगित करनी पड़ी है। फिलहाल अगली तिथि अभी निश्चित नहीं हो पाई है। तिथि की घोषणा जल्द तय कर इसे सार्वजनिक रूप से प्रसारित कर दिया जाएगा। 

चार सौ युवाओं की हुई परीक्षा 

जनरल ड्यूटी की परीक्षा स्थगित होने के बाद लैंसडौन में ट्रेडमैन, क्लर्क व तकनीकी पदों के लिए कुल चार सौ युवाओं की परीक्षा संपन्न हुई। इस वर्ग की भर्ती रैली के लिए सभी युवाओं की परीक्षा निर्धारित समय पर ही आयोजित की गई। गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंट सेंटर में भी आयोजित सैनिक आश्रितों की भर्ती रैली में जनरल ड्यूटी की भर्ती परीक्षा स्थगित हो गई थी। अन्य पदों की भर्ती में सैनिक आश्रितों के सभी युवा परीक्षा में शामिल हुए। 

परेशानी से दो-चार हुए युवा 

लैंसडौन: जनरल ड्यूटी श्रेणी की लिखित परीक्षा देने आए युवाओं को परेशानी से दो-चार होना पड़ा। परीक्षा स्थगित होने के बाद युवाओं को वापस लौटने के लिए जहां वाहन नहीं मिल पाए, वहीं टैक्सी चालकों की ओर से ओवररेट किराया वसूलने की शिकायत रविवार को भी बनी रही। लैंसडौन में गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंट सेंटर की सैनिक आश्रितों के लिए गत दिनों आयोजित की गई रैली से कुल 1100 व सेना भर्ती कार्यालय की ओर से कोटद्वार में आयोजित रैली में से 4116 समेत कुल साढ़े पांच हजार युवा यहां लिखित परीक्षा देने पहुंचे थे। प्रशासन की ओर से नरेंद्र क्लब समेत ङ्क्षहदू पंचायती धर्मशाला में युवाओं के लिए व्यवस्था की गई थी, लेकिन सभी युवाओं को रात्रि विश्राम के लिए जगह नहीं मिल पाई। सेना की ओर से भर्ती के लिए युवाओं को रात्रि साढ़े ग्यारह बजे रिपोर्ट करने के निर्देश दिए गए थे। ऐसे में युवाओं को ठंड में भी ठिठुरना पड़ा। परीक्षा स्थगित होने के कारण उन्हें आर्थिक समस्याओं से भी दो-चार होना पड़ा। 

यह भी पढ़ें- भिक्षा मांगने वाले नौनिहालों के हाथों में शिक्षा की डोर, उत्तराखंड के सभी जिलों में चलेगा ये अभियान

 

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021