कोटद्वार: निर्माणाधीन प्रवेश द्वारों में कोटद्वार के साथ कण्वनगरी अंकित कराने की मांग को लेकर नागरिक मंच ने काबीना मंत्री डॉ. हरक ¨सह रावत को ज्ञापन दिया। कहा कि कण्वनगरी अंकित होने से पर्यटकों व युवाओं में कण्वआश्रम के इतिहास को जानने के लिए उत्सुकता बनेगी।

मंगलवार को सदस्यों ने वन एवं पर्यावरण मंत्री डॉ. हरक ¨सह रावत को ज्ञापन दिया। कहा कि कोटद्वार का भाबर क्षेत्र महर्षि कण्व की तपस्थली व राजा भरत की जन्मस्थली के रूप में स्वीकार किया गया है, लेकिन आज भी कई लोगों को इस इतिहास के बारे में जानकारी नहीं है। कहा कि क्षेत्र में आने वाले पर्यटकों व युवाओं को कण्वनगरी के बारे में जानने की उत्सुकता बने, इसके लिए कौड़िया व गिवईस्त्रोत के समीप बन रहे स्वागत द्वारों में कोटद्वार के साथ कण्वनगरी भी अंकित किया जाना चाहिए। सदस्यों ने प्रदेश सरकार से कण्वाश्रम के विकास को लेकर गंभीरता से कार्य करने को कहा। इस मौके पर नागरिक मंच के अध्यक्ष विनोद कुकरेती, महासचिव मनीष भट्ट आदि मौजूद रहे। (संस)

Posted By: Jagran