संवाद सहयोगी, लैंसडौन : छावनी परिषद की बोर्ड बैठक में वार्ड सदस्य राजेश ध्यानी ने कैंट पर नियमों की धज्जियां उड़ाने का आरोप लगाते हुए कैंट प्रशासन की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए। बैठक में नगर में छह मोबाइल टावर समेत जीओ कंपनी की फाइबर लाइन बिछाने के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई है।

छावनी परिषद के चेयरमैन ब्रिगेडियर अनूप सिंह चौहान की अध्यक्षता में कैंट स्कूल में शारीरिक दूरी का पालन करते हुए बोर्ड बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में वार्ड सदस्य राजेश ध्यानी ने कैंट प्रशासन की कार्यप्रणाली को लेकर कड़े तेवर दिखाए। ध्यानी ने आरोप लगाया कि बीती एक फरवरी को ठोस प्रबंधन के विनियम के लिए ड्राफ्ट उपनियम की बैठक हुई, जिसमें अधिकांश सदस्यों की सहमति से निर्णय लिया था कि ड्राफ्ट पर अध्ययन करने के बाद अगली बैठक में निर्णय लिया जाएगा। ध्यानी ने आरोप लगाया कि जब उन्हें बैठक की कार्यवाही की प्रति मिली तो उन्हें पता चला कि उक्त प्रस्ताव को पारित कर दिया गया। आरोप लगाया कि ऐसी कार्यवाही से कैंट प्रशासन सदन की गरिमा की धज्जियां उड़ा रहा है। बैठक में वार्ड सदस्य डॉ. एसपी नैथानी ने कहा कि लैंसडौन कैंट क्षेत्र में सिर्फ छावनी क्षेत्र के ही लोगों को क्वारंटाइन किया जाना चाहिए। बाहरी क्षेत्रों से लैंसडौन में लाकर आइसोलेट किए जा रहे लोगों के लिए डेरियाखाल में केंद्र बनाने की बात कही। बैठक में कैंट को राज्य वित्त आयोग से ग्यारह लाख रुपये मिलने, टैंट कॉलोनी के टेंडर को पास करने समेत छह मोबाइल टावर समेत जीओ कंपनी की फाइबर लाइन बिछाने की योजना को सहमति दी गई। बैठक में कैंट उपाध्यक्ष दिनेश सिंह रावत, सदस्य इंद्रा रावत, राजेंद्र सिंह रावत, सीईओ भूपति रोहित, कार्यालय अधीक्षक अनिल बौंठियाल आदि मुख्य रूप से मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस