संवाद सहयोगी, पौड़ी : गुलदार के नाखून रखने के आरोप में वन विभाग ने भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर नेपाली मूल के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि आरोपित ने आपसी संघर्ष में मरे गुलदार के शव से नाखून निकाल लिए थे।

बीते 29 मई को गढ़वाल वन प्रभाग के नागदेव रेंज में मादा गुलदार का शव मिला था। वन विभाग के अधिकारियों ने मादा गुलदार की मौत का कारण आपसी संघर्ष बताया था। अब वन विभाग ने मादा गुलदार के शव से नाखून निकालने के आरोप में नेपाली मूल के प्रकाश चंद को गिफ्तार किया है। वन विभाग के अधिकारियों को कहना है कि प्रकाश चंद ने मादा गुलदार के शव को झाड़ियों में पड़े हुए देखा था और वन विभाग की टीम के आने से पहले ही गुलदार के शव से छह नाखून निकाल लिए थे। वन विभाग गुलदार की मौत का कारण आपसी संघर्ष बता रहा है। वन क्षेत्राधिकारी अनिल भट्ट ने कहा कि प्रकाश चंद से नाखून बरामद कर लिए गए हैं। आरोपित के खिलाफ भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। भट्ट ने बताया कि गुलदार के नाखून फोरेंसिक जांच के लिए भारतीय जीव संस्थान देहरादून भेजे जा रहे हैं।

संदेह के घेरे में विभाग की कार्यप्रणाली

मादा गुलदार मौत प्रकरण में वन विभाग की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में है। पहले वन विभाग ने आपसी संघर्ष में गुलदार की मौत होना बताया। इस दौरान विभाग ने मादा गुलदार के शव के साथ छेड़छाड़ व नाखून गायब होने की बात छिपाई। अब विभाग नाखून बरामद होने पर आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की बात कह रहा है। इससे स्पष्ट होता है कि यदि नाखून बरामद नहीं होते तो विभाग इस पर पर्दा डाल देता।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस