जागरण संवाददाता, बागेश्वर: ग्राम पंचायत दुलम, बड़ेत, सुमगढ़ के ग्रामीणों ने पिंडारी मोटर मार्ग पर भूल्यूड़ा के समीप चक्काजाम किया और धरना दिया। उन्होंने कहा कि संचार सेवा दुरुस्त होने तक वह आंदोलन जारी रखेंगे। गुरुवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ग्रामीण सुबह सात बजे पिंडारी मोटर मार्ग के भूलल्यूड़ा के समीप एकत्र हुए। उन्होंने जमकर नारेबाजी की। कहा कि 21 वीं शदी में वह संचार सेवा से महरूम हैं। आपदा के कारण क्षेत्र में होने वाली घटनाओं भी वह समय से जिला प्रशासन तक नहीं पहुंचा पा रहे हैं। प्रदेश और सेना में रहने वाले प्रियजनों से बात भी नहीं हो पाती है। इसके अलावा दुलम-ठांगधार मोटर मार्ग भी लटका हुआ है। जिसके कारण ग्रामीणों को यातायात सुविधा से वंचित किया गया है। प्रसूताएं, बुजुर्ग, बीमार लोगों को सड़क तक लाने में उनके पसीने छूट रहे हैं। डोली उठाने को कई बार गांव में युवा भी नहीं मिल पाते हैं। उन्होंने कहा कि दो सूत्रीय मांगों का शीघ्र निराकरण नहीं हुआ तो वह आंदोलन तेज करेंगे। इस दौरान भूपेंद्र सिंह, राजेंद्र सिंह, विरेंद्र सिंह, सुरेंद्र सिंह, रणजीत सिंह, खुशाल सिंह, यशपाल सिंह, भीम सिंह, आनंद सिंह, दरवान सिंह, लक्ष्मण सिंह, खीम सिंह आदि मौजूद थे।

चौड़ा गांव में खेत में फैला करंट, बैल की मौत

करंट की चपेट में आने से एक मवेशी की मौत हो गई है। पशुपालक ने बिजली विभाग से मुआवजा देने की मांग की है। चौड़ा गांव निवासी नारायण सिंह ने बताया कि वह बैलों को लेकर खेत में गए थे। एकाएक खेत में करंट फैल गया। जिससे एक बैल चपेट में आ गया और उसकी मौत हो गई। जबकि दूसरे को बचा लिया गया है। उनकी जान भी बच गई है। किसान ने बताया कि वह तल्ला चौड़ा में अपने खेत में हल जोत रहे थे। बिजली का करंट पूरे खेत में फैल गया। बिजली के तार और पोलों को उनके खेत से तत्काल हटाया जाना चाहिए। इधर, ईई भास्कर पांडे ने बताया कि घटना की जांच की जाएगी।

Edited By: Prashant Mishra