जागरण संवाददाता, चम्पावत : जब हम हजार रुपये का सामान लाते हैं। तो सौ रुपये हमारे धर्म के बचते हैं। जो हमारी जेब में आता है। पचास रुपये खुद रखता हूं और पचास रुपये प्रधानाचार्य को देता हूं। कोई अपना कमीशन नहीं छोड़ता। कल को उसका ऑडिट होगा तो कम कहां से लगाएंगें पैसा।

आप तो छोडक़र चले जाओगे। यह हम नहीं कह रहे बल्कि टनकपुर जीआइसी में तैनात मुख्य प्रशासनिक अधिकारी केदार दत्त जोशी के वायरल वीडियो में वह स्वयं बोलते नजर आ रहे हैं।

इन दिनों टनकपुर जीआइसी के बाबू केदार दत्त जोशी अपने बड़ बोले बोल के लिए खूब चर्चाओं में हैं। पहले एक के बाद एक दो ऑडियो वायरल हुए। जिसमें वह प्रभारी प्रधानाचार्य द्वारा चिकित्सा प्रमाण पत्र माांगे जाने पर उनसे जमकर गाली गलौज करते हुए जान से मारने की धमकी देते हुए सुनाई दे रहे हैं।

यह मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि शनिवार को उनका एक ऑडियो के बाद एक वीडियो वायरल हो गया। जिसमें वह स्वयं सरकारी सामान में खरीद में कमिशन लेने की बात स्वीकार कर रहे हैं। वह यह बात स्कूल में मौजूद शिक्षकों के साथ धमकाने के अंदाज में कह रहे हैं। ऑडियो ओर अब वीडियो का विभाग द्वारा संज्ञान लिया जा रहा है।

ऑडियो के आधार प्रभारी प्रधानाचार्य की शिकायत पर उनके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया जा चुका है। अब देखना है कि विभाग व जिला प्रशासन अब इस वायरल वीडियो के बाद क्या कार्यवाही अमल में लाता है। वीडियो व ऑडियो शासन स्तर तक पहुंच गई है।

सीईओ ने मांगा स्पष्टीकरण

टनकपुर जीआइसी में प्रभारी प्रधानाचार्य द्वारा बाबू से चिकित्सा प्रमाण पत्र मांगे जाने पर बाबू द्वारा की गई अभद्रता व गाली गलौज मामले की जांच शुरू हो गई है। प्रभारी प्रधानाचार्य द्वारा डीएम से की गई शिकायत के मामले में डीएम के आदेश पर सीईओ ने मुख्य प्रशासनिक अधिकारी से तीन बिंदुओं पर तीन दिन के अंदर स्पष्टीकरण देने के आदेश दिए हैं।

सीईओ ने प्रथम बिंदु में बाबू से चिकित्सा व स्वास्थता प्रमाण पत्र जमा किए बिना कैसे उपस्थिति पंजिका पर हस्ताक्षर किए गए, द्वितीय बिंदु में प्रभारी प्रधानाचार्य बद्री प्रसाद शर्मा के साथ गाली गलौज व जान से मारने की धमकी देने व तृतीय बिंदु में प्रधानाचार्य कक्ष में कैसे जबरन ताला लगाया पर स्पष्टीकरण मांगा है।

सीईओ ने तीन दिन के अंदर तीन प्रतियों में साक्ष्य सहित स्पष्टीकरण देने के आदेश दिए हैं। निर्धारित समय में स्पष्टीकरण न मिलने पर आचरण नियमावली के तहत विभागीय कार्यवाही आरंभ कर दी जाएगी।

पूर्व सीईओ भी बाबू को पा चुके हैं दोषी

जीआइसी में तैनात बाबू के खिलाफ पूर्व सीईओ आरसी पुरोहित समेत पूर्व एसडीएम व डीएम की जांच में भी दोषी पाए जा चुके हैं। उस समय भी बाबू पर शिक्षकों व बच्चों के साथ अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगाया गया था। लेकिन बाबू पर दोषी पाए जाने के बाद भी कार्यवाही नहीं हो सकी।

पूर्व सीईओ आरसी पुरोहित ने इसकी पुष्टि की है। यही वजह है कि वायरल ऑडियो में भी बाबू प्रधानाचार्य से कह रहा है जब वह पूर्व सीईओ मेरा कुछ नहीं कर पाए तो तुम क्या कर लोगे।

Edited By: Prashant Mishra