मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बाजपुर (ऊधमसिंहनगर) जेएनएन : देश में तीन तलाक के खिलाफ कानून बनने के बाद भी इस तरह की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। बाहरवाली के चक्कर में अपनी पहली पत्नी को तीन तलाक देने का आरोप लगा पीडि़ता द्वारा गई तहरीर पर 15 दिन बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है। पीडि़ता पति के खिलाफ नए कानून के तहत कार्रवाई करने की मांग को लेकर इधर-उधर भटक रही है, लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हो रही। 

ग्राम दियोहरी निवासी सलमा पुत्री मुन्ने खां हाल निवासी हल्द्वानी ने इसी माह 4 अगस्त को तहरीर देकर कहा था कि लगभग सात वर्ष पूर्व उसका निकाह शाहिद पुत्र नन्हें निवासी ग्राम दियोहरी के साथ मुस्लिम रीतिरिवाज के अनुसार हुआ था और वैवाहिक जीवन ठीक-ठाक चल रहा था जिसमें उसके पुत्र भी पैदा हुए। आरोप है कि उसके पति शाहिद का एक युवती से अवैध संबंध हो गए हैं, इसका विरोध करने पर शाहिद द्वारा उसे घर पर ही तलाक दिए जाने और उस कथित युवती के साथ रहने की धमकी दी गई, लेकिन उस समय पति को गुस्से में जान सलमा ने इस बात को यह सोचकर जाने दिया कि समय के साथ सब सही हो जाएगा, लेकिन शाहिद करीब 15 दिन से घर भी नहीं आया है। इस बाबत पूछे जाने पर शाहिद ने उसे मौखिक रूप से तीन तलाक देने की बात कहते हुए अपने साथ रखने से साफ इन्कार कर दिया है। यह सुनकर उसके पैरों तले की जमीन खिसक गई और उसने न्याय के लिए अनेक जगह गुहार लगाई, लेकिन कहीं उसकी सुनवाई नहीं हो रही है। पीडि़ता ने यह भी आरोप लगाया है कि इस काम में सलमा के सास-ससुर भी शामिल हैं, जो सलमा को बात-बात पर परेशान किया करते थे। इन्हीं के द्वारा शाहिद का निकाह एक गैर समुदाय की युवती के साथ गुप्त तरीके से कराया गया है जिसके चलते अब सलमा के सामने बच्चों को पालने का संकट खड़ा हो गया है। तहरीर में यह भी कहा गया है कि मेरे पास जीवन जीने का कोई साधन नहीं और ना ही मुझे मेरे परिवार का कोई सहारा है। पीडि़ता ने एक बार पुन: गुहार लगाते हुए अवैध रूप से दिए गए तलाक के संबंध में नए कानून के तहत मामला दर्ज कर कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है।

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप