जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : नगर निगम के वाहन हर माह पांच लाख रुपये का डीजल पी जा रहे हैं। इनमें वे वाहन शामिल नहीं हैं, जिन्हें डोर-टू-डोर कूड़ा कनेक्शन में लगाया गया है। सोमवार को समीक्षा बैठक में ये बात सामने आई। नगर आयुक्त ने वरिष्ठ नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. राहुल लसपाल से इसका आकलन कर तेल के मद में व्यय को कम करने के निर्देश दिए हैं।

नगर आयुक्त सीएस मर्तोलिया ने निगम के विभिन्न विभागों के प्रमुखों की समीक्षा बैठक ली। सामने आया कि पहले ही धन की कमी से जूझ रहे निगम का हर माह पांच लाख रुपये डीजल में खर्च हो रहा है। इसमें अधिकारियों के वाहन और सफाई कार्य में लगे वाहन शामिल हैं। एमएनए मर्तोलिया ने कहा कि डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन के बाद तेल व्यय में कमी आनी थी। इस पर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. लसपाल ने तर्क किया कि एटूजेड कंपनी घरों से कूड़ा उठान कर रही हैं। सड़क, नाली सफाई, सार्वजनिक स्थानों पर जमा कूड़ा आदि का उठान निगम की पुरानी गाड़ियों से पहले की तर्ज पर जारी है। इस कारण तेल खर्च कम नहीं हुआ है।

बैठक में सहायक नगर आयुक्त विजेंद्र चौहान, कर निरीक्षक भरत त्रिपाठी, राजेंद्र बिष्ट, लेखाकार गणेश भट्ट, हरीश राणा, श्याम सिंह, गिरीश भट्ट, भूपाल सिंह, कैलाश आदि मौजूद रहे। जीआइएस सिस्टम विकसित करने के निर्देश

स्ट्रीट लाइट खराब होने के बढ़ती शिकायतों और पिछले दिनों रात में हुई वारदात को देखते हुए बिजली विभाग के जेई केबी उपाध्याय को रात्रि गश्त करने के निर्देश दिए। कहा, बिजली पोल्स की नंब¨रग करने के साथ भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस) विकसित करें, ताकि नक्शे के आधार पर शिकायतों का समाधान किया जा सके। आय न बढ़ा पाने पर नाराजगी

निगम की आय न बढ़ाने पर एमएनए ने नाराजगी जताई। कर अनुभाग से दुकानों के अनुबंध की कार्यवाही जुलाई से नए किरायेदारी के हिसाब से करने के निर्देश दिए। कहा तत्काल बिल जारी करें। कर अधीक्षक बबिता से बिल पोस्टिंग व वसूली के कामों में तेजी लाएं। कर निरीक्षक पूजा से फील्ड में जाकर वसूली बढ़ाने के निर्देश दिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस