सितारगंज, जेएनएन : कोरोना के कहर को देखकर अपराध की दुनिया में कुख्यात बदमाश का भी दिल पिघल गया है। कोरोना के संक्रमण से देशवासियों की मदद के लिए अंडरवर्ल्ड डॉन प्रकाश पांडे उर्फ पीपी ने भी दान दिया है। डॉन ने जेल में की गई मेहनत की कमाई से प्रधानमंत्री राहत कोष में 11 हजार रुपए दान कर दिए हैं। पीपी के अलावा सेंट्रल जेल के 16 अन्य कैदियों ने भी 40000 पीएम केयर फंड में जमा किए हैं।

17 कैदियों ने दिए 50 हजार

कोरोना के आपदा काल मे जहां साधन संपन्न लोग देश के साथ खड़े हैं वही सेंट्रल जेल के कैदी भी पीछे नहीं है । सेंट्रल जेल में बंद अंतर्राष्ट्रीय डॉन प्रकाश पांडे उर्फ पीपी ने भी कोरोना से बचाव के लिए देश हित में 11 हजार रुपए जमा किए हैं। पीपी ने जेल में सजा के दौरान की गई कमाई गई रकम को प्रधानमंत्री राहत कोष में दिया है। केदी पूरन सिंह ने भी पाच हजार रुपए दिए हैं। इसके अलावा उम्र कैद और मियादी कारावास की सजा काट रहे 16अन्य कैदियों ने भी 40 हजार रुपए पीएम फंड में जमा किए हैं।

सेंट्रल जेल 650 से अधिक कैदी

देश में आए संकट काल में जेल के 22 कैदियों ने 55 हजार से अधिक की धनराशि प्रधानमंत्री राहत कोष में दे दी है । मौजूदा समय में सेंट्रल जेल व संपूर्णानंद शिविर खुली जेल में 650 से अधिक कैदी बंद है। जेल अधिकारियों से देश में आई आपदा की जानकारी उन्हें लगातार मिल रही थी। जिसके बाद उन्होंने मेहनत कर कमाई गई धनराशि को देशवासियों के लिए देने का मन बनाया। जेल अधीक्षक दधि राम मौर्या ने बताया कि प्रकाश पांडे समेत 18 कैदियों ने 50 हजार से अधिक रुपए राहत कोष में दिए हैं। उन्होंने कहा कि जेल में बंद कैदियों में भी राष्ट्रप्रेम का जज्बा है जिसकी वजह से ही उन्होंने आपदा काल में दान करने का मन बनाया है।

यह भी पढ़ें 

ट्रक चालक के कोरोना पॉजिटिव मिलने पर सिडकुल की दो कंपनियों में उत्पादन ठप

सुबह दस से शाम चार बजे तक खुलेंगे दफ्तर, कुमाऊं में सभी जिले ग्रीन जोन 

उत्तराखंड का एक और लाल जम्मू-कश्मीर में शहीद, दो दिन में तीसरी शहादत से गमगीन हुई देवभूमि 

मां फायरिंग शुरू हो गई है, फोन रखता हूं, बाद में करूंगा...यही थे शहीद शंकर के आख‍िरी शब्‍द 

आखिरी बार फोन पर फौजी पिता से शहीद बेटे ने कहा था - घाटी के हालात बिगड़ रहे हैं पापा


Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस