जागरण संवाददाता, चम्पावत : जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के अंतर्गत 766 आवासों को स्वीकृति मिल गई है। शनिवार को जिला सभागार में डीएम विनीत तोमर एवं जिला पंचायत अध्यक्ष ज्योति राय की अध्यक्षता में हुए कार्यक्रम में लाभार्थियों को प्रमाण पत्र वितरित किए गए।

जिपं अध्यक्ष ने योजना के लाभार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आवास मिलने के बाद लोगों को काफी सुविधा मिलेगी। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें जनहित में कई योजनाएं चला रही हैं। सरकार का उद्देश्य गरीब और पिछड़े लोगों को विकास की मुख्य धारा में शामिल करना है। अपना आवास होने के बाद लोगों की जिंदगी काफी आसान हो जाएगी। जिलाधिकारी ने बताया कि जिले से प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 766 आवासों को स्वीकृति मिल गई है। योजन के अंतर्गत लाभार्थी को एक लाख बयालीस हजार रुपये दिए जाएंगे।

बताया कि मनरेगा के तहत लाभार्थी को गृह निर्माण के दौरान 95 मजदूरी दिवस देने का भी प्रावधान है। कार्यक्रम मे उपस्थित मुख्य विकास अधिकारी राजेंद्र सिंह रावत ने बताया कि जिन लाभार्थियों के आवास स्वीकृत हुए है उनको जल जीवन मिशन के अंतर्गत एक पानी का कनेक्शन तथा उज्ज्वला योजना के अंतर्गत गैस का कनेक्शन भी दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिस घर मे बिजली की आपूर्ति नहीं है वहां बिजली भी दी जाएगी। उन्होंने लाभार्थियों से गृह निर्माण की प्रक्रिया छह माह के भीतर पूरी करने को कहा। कहा कि निर्माण अवधि में किसी लाभार्थी को कोई समस्या आती है तो जिला प्रशासन मदद करेगा। इस मौके पर एपीडी विम्मी जोशी, डीडीओ संतोष कुमार पंत, समस्त खंड विकास अधिकारी आदि मौजूद रहे।

प्रमाण पत्र मिलने के बाद भावुक हो गई हेमा

प्रधानमंत्री आवास योजना का प्रमाण पत्र मिलते ही लाभार्थी हेमा कापड़ी भावुक हो गई। उन्होंने बताया कि उनके पास रहने को घर नहीं था। पूरा परिवार रिश्तेदार के घर में रह रहे थे। कहा कि आशियाना बनने के बाद वे अपने घर में शिप्ट हो जाएंगे। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री तथा जिला प्रशासन का आभार जताया। अन्य लाभार्थी रेखा देवी ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत घर मिलने से वे बहुत खुश हैं तथा प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री तथा जिला प्रशासन का धन्यवाद करती हैं।

Edited By: Prashant Mishra