जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : यूकेडी नेता सुशील उनियाल आंखों पर काली पट्टी बांधकर सरकार की नीतियों का विरोध कर रहे हैं। जिसमें उन्होंने भाजपा सरकार को धृतराष्ट्र बनकर कार्य करने का आरोप लगाया है।

उत्तराखंड क्रांति दल के पूर्व केंद्रीय महामंत्री सुशील उनियाल ने धरना प्रदर्शन के दूसरे दिन भी नबाबी रोड स्थित निज आवास पर आंखों पर काली पट्टी बांध सरकार का विरोध किया। कहा कि चार साल से अधिक कार्यकाल के बाद भी बेरोजगारों को डबल इंजन की सरकार रोजगार नहीं दे पाई। बेरोजगार युवाओं से फॉर्म भरवाने के नाम पर सरकार करोड़ों रुपये वसूली कर चुकी है। लेकिन विभागीय भर्ती लगभग शून्य पर है। नर्स, पुलिस व अन्य विभागों में भर्ती की तिथि आगे बढ़ा दी गई।

सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि उत्तराखंड में सिर्फ कथित नेताओं के लिए रोजगार लाया जा रहा है। जिसमें विधायकों की संख्या 18 से 70 तक पहुंच गई है। बीते चार साल में सरकार कोई ऐसा औद्योगिक उपक्रम नहीं ला सकी, जिससे युवाओं को रोजगार मिल सके। पर्यटन पर भी कोई ठोस कार्य नहीं हुआ। कहा कि ऐसा लगता है जैसे डबल इंजन की सरकार धृतराष्ट्र की तरह आंखों पर पट्टी बांधकर निर्णय दे रही है। सिडकुल में युवाओं का शोषण कर रोजगार छीना जा रहा है।

राज्य की अवधारणा को आघात

उत्तराखंड राज्य के भीतर की परिसंपत्तियों पर अभी भी उत्तर प्रदेश का कई जगह अधिकार है। उत्तर प्रदेश के क्षेत्रों को उत्तराखंड में मिलाकर पहाड़ी राज्य की अवधारणा को आघात पहुंचाने की साजिश की जा रही है। जिसे किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Prashant Mishra