जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता से गुरुवार देर रात से शुक्रवार को पूरे दिनभर जिले भर में रुक-रुककर खूब बारिश हुई। इस बेमौसम बारिश ने लोगों के लिए मुसीबत खड़ी कर दी। उजालानगर में कब्रिस्तान वाला नाला चोक होने से कई लोगों के घरों में पानी घुस गया। इससे घरों का सामान पानी के ऊपर तैरने लगा। स्थानीय जनप्रतिनिधियों व लोगों ने नगर निगम पर उपेक्षा का आरोप लगाया है।

::::::::::::::

दो माह पहले टूट गया था नाला

कब्रिस्तान से उजालानगर होते हुए गौला बाईपास जाने वाला नाला लोगों के लिए आए दिन मुसीबत बनता है। उजालानगर तक नाले की चौड़ाई आठ फीट है, जबकि इससे आगे महज चार फीट चौड़ाई है। चैंबर न होने से नाला चोक होने की स्थिति में पानी ओवरफ्लो होकर बाहर आ जाता है। दो माह पहले यह टूट गया था। निगम ने दीवार लगाकर कुछ चैंबर बनाए, मगर यह अभी खुला भी नहीं था कि शुक्रवार को फिर से पानी ओवरफ्लो हो गया।

::::::::::::::

तीन वार्ड के लोगों ने किया प्रदर्शन

जलभराव से गुस्साए वार्ड 30, 31 व 32 के लोगों ने पूर्व सभासद शकील सलमानी के नेतृत्व में इंदिरानगर काबुल के गेट के सामने प्रदर्शन कर विरोध जताया। कहा कि मामूली बारिश में लोगों के घरों में पानी भरना आम बात हो चुकी है, इसके बावजूद नगर निगम प्रशासन समाधान की तरफ कोई ठोस पहल नहीं कर रहा। अफसरों का मौके पर न पहुंचना गंभीर लापरवाही है। प्रदर्शन करने वालों में कमलेश गुप्ता, अजय कुमार, सुरेश कुमार, विजय कुमार, ओम प्रकाश, वसीम खान, उवेश, नासिर, शाकिर, वकील अहमद, अफरोज खान, शोभा देवी, रन्नो देवी, सरोज देवी, सावित्री देवी, मीना देवी शामिल रहे।

::::::::::::::::

सुबह पांच बजे से नाला चोक है। यह कूड़े से भर गया है। मलिक के बगीचे से ऊपर नाला खुला है, जहां से लोग कूड़ा डाल देते हैं। इसे बंद किया जाना चाहिए।

- वसीम अहमद, प्रभावित

-----------

मेरा जनरल स्टोर है। सुबह जब नाला चोक हुआ तो पानी के तेज बहाव के साथ कूड़ा मेरी दुकान में घुस गया। पानी से दुकान का काफी सामान खराब हो गया।

- अब्दुल माजिद, किराना व्यवसायी

-----------

उजालानगर से गौला बाइपास तक नाले की चौड़ाई काफी कम है, जबकि नाले का बहाव काफी अधिक है। चौड़ाई बढ़ाने के साथ नाले को गहरा करने की भी जरूरत है।

- मोहम्मद उमर, प्रभावित

-----------

नाले का पानी घर में घुसने से सामान खराब हो गया है। पूरे परिवार को पानी बाहर फेंकने में चार घंटे लग गए। आए दिन की समस्या के समाधान के लिए निगम कुछ करें।

- अख्तर अली, प्रभावित

-----------

निगम प्रशासन नाले का स्थायी समाधान नहीं तलाश रहा है। पिछले दिनों नाला टूटने के बावजूद उस स्थान की महज मरम्मत कर खानापूर्ति कर दी गई।

- रूमी वारसी, पार्षद वार्ड 29

--------

नाला काफी लंबा है। अतिक्रमण के कारण काम करना मुश्किल हो रहा है। नाले के निकासी का अस्थायी हल निकाले जाने का प्रयास जारी है।

-डॉ. मनोज कांडपाल, नगर स्वास्थ्य अधिकारी

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस