जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : तराई खूंखार बदमाशों के बाद अब आतंकियों की शरण स्थली बनते जा रहा है। यही कारण है कि जहां बिहार, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, पंजाब और हरियाणा तथा यूपी के नामी गिरामी बदमाशों का आना जाना लगा हुआ है। वहीं पंजाब के आतंकी भी अब यहां शरण लेने लगे है। जिससे जिले में आपराधिक वारदात भी बढ़ रही है।

कुमाऊं मंडल के प्रवेश द्वार ऊधम सिंह नगर में सिडकुल स्थापना के बाद से जनसंख्या में तेजी से वृद्धि हुई। नौकरी की तलाश में बाहरी युवा भी बड़ी संख्या में यहां आए। तेजी से पैसा आया तो शातिर अपराधियों की नजर भी औद्योगिक नगरी पर टिक गई। ऐसे में वे आपराधिक घटना को अंजाम देने के बाद पुलिस से बचने के लिए यहां शरण ले रहे हैं। यह उनके लिए सुरक्षित ठिकाना भी बन रहा है। मौका मिलने पर वह यहां भी वारदात को अंजाम देकर फरार हो जाते हैं।

फलस्वरूप सात सालों में यहां बिहार, छत्तीसगढ़, पंजाब, हरियाणा के खूंखार अपराधी शरण लिए। रुद्रपुर में व्यापारी की दुकान के आगे फायरिंग कर गैंगस्टर लॉरेंस विश्नोई के नाम पर एक करोड़ की फिरौती की धमकी का भी मामला हो या फिर पुलिस और एसटीएफ की पंजाब से आकर काशीपुर में शरण लिए खूंखार गैंगस्टर से मुठभेड़। इसके बाद एक बार फिर एसटीएफ ने पंजाब में आतंकी हमले के साजिशकर्ता सुखप्रीत उर्फ सुख को बाजपुर और केलाखेड़ा में शरण देने वाले चार युवकों को गिरफ्तार किया है।

केस-1

वर्ष 2014 में पंजाब के इनामी बदमाशों की रुद्रपुर में शरण लेने की सूचना पर पंजाब पुलिस पहुंची। जब पुलिस उनकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दी तो उन्होंने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी थी। बदमाशों के हौसले इतने बुलंद थे कि दिनदहाड़े वह काशीपुर बाइपास रोड होते हुए गदरपुर की ओर फायरिंग करते हुए फरार हुए।

केस-2

वर्ष 2015 में ट्रांजिट कैंप के शास्त्रीनगर में यूपी की मुरादाबाद पुलिस ने एक घर में 50 हजार के इनामी बदमाश की धरपकड़ को दबिश दी। पुलिस की दबिश देते ही एक बदमाश भाग निकला। इस पर पुलिस कर्मियों ने उसका पीछा कर दबोच लिया। बाद में उसकी निशानदेही पर पुलिस ने जिस घर में वह रह रहा था एके-47 बरामद की।

केस- 3

वर्ष 2017 में कांग्रेसी नेता किरन सरदार की हत्या करने के लिए बिहार और छत्तीसगढ़ से भाड़े के शूटर आए थे। इस दौरान वह कई दिनों तक ट्रांजिट कैंप में किराए में रहकर रेकी करते रहे। मौका मिलते ही उन्होंने किरन सरदार के कार्यालय में स्टेनगन से ताबड़तोड़ कई राउंड फायर कर दी थी। हालांकि बाद में पुलिस ने लोगों की मदद से उन्हें दबोच लिया था।

केस-4

17 नवंबर 2020 को सितारगंज में पुलिस पर चेकिंग के दौरान हरियाणा के तीन इनामी बदमाशों ने हमला कर दिया था। इस पर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। जब जांच की गई तो पता चला वह लंबे समय से सितारगंज में किराए में रह रहे थे। गिरफ्तार बदमाश पवन पर एक लाख रुपये, मोनू पर 50 और आशीष पर 25 हजार का इनाम घोषित था।

केस-5

19 जुलाई 2021 (सोमवार) को स्पेशल टास्क फोर्स को पंजाब के क्राइम कंट्रोल यूनिट से सूचना मिली कि पंजाब के खूंखार गैंगस्टर काशीपुर में शरण लिए हुए हैं। जिसक बाद एसटीएफ कुमाऊं मंडल और पंजाब की क्राइम कंट्रोल यूनिट की खूंखार गैंगस्टरों से काशीपुर के गुलजारपुर गांव में मुठभेड़ हो गई है। जिसमें तीन गैंगस्टर समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

केस-6

21 जनवरी 2021 की रात एसटीएफ ने पंजाब के पठानकोट में बम ब्लास्ट के शाजिसकर्ता को शरण देने वाले बाजपुर और केलाखेड़ा के चार युवकों को गिरफ्तार किया है। हालांकि टीम के उन तक पहुंचने से पहले ही आतंकी फरार हो गया। इस पर एसटीएफ ने आतंकी को शरण देने वाले शेरा से एक पिस्टल और चार कारतूस के साथ ही तीन अन्य को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

Edited By: Skand Shukla