जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : ऊधमसिंह नगर पूरे कुमाऊं में प्रवेश का जिला है। यहां पर कोरोना की जांच अनिवार्य है। यदि यहां पर संक्रमित पकड़ में नहीं आता तो पूरे पहाड़ पर संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है। अफ्रीका से कोविड 19 के नए वेरियंट के फैलने की जानकारी सामने आने के बाद प्रदेश में प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को सतर्कता बरतने और बॉर्डर, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन पर कोविड की जांच के लिए सैम्पलिंग शुरू करने के निर्देश दिये गए हैं। इसके बाद भी सोमवार को प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग जांच और सैम्पलिंग को लेकर लापरवाह नजर आया। जागरण ने इसको लेकर पड़ताल की।

रेलवे स्टेशन पर 10 बजकर 10 मिनट पर प्लेटफार्म नंबर दो पर दिल्ली-काठगोदाम शताब्दी एक्सप्रेस पहुंची। यात्री बिना किसी जांच या सैम्पलिंग के बेरोकटोक अपने गंतव्य को रवाना हुए। साथ ही यात्री भी बिना मास्क के आते और जाते दिखाई दिए। स्टेशन अधीक्षक ध्रुव कुमार मर्तोलिया ने कहा कि ओमिक्रोन को लेकर रेलवे को अभी कोई गाइडलाइंस नहीं मिली है। जागरण ने रामपुर बॉर्डर पर महाविद्यालय के सामने भी कोविड 19 की जांच को लेकर शुरू होने वाले सैम्पलिंग और जांच की पड़ताल की तो पता लगा कि स्वास्थ्य विभाग की टीम यहां 11 बजे तक नहीं पहुंची थी।

सर्विलांस आफिसर एसीएमओ डॉ अविनाश खन्ना ने दो सदस्यीय टीम को बॉर्डर पर सैम्पलिंग के लिए भेजे जाने की जानकारी दी। मौके पर ऐसी कोई टीम नहीं मिली। बाद में पता चला कि पुलिस विभाग से जांच में सहयोग के लिए पुलिसकर्मियों की मांग की गईं है जो कि नहीं मिली और न ही टीम के बैठने की व्यवस्था हो सकी। सर्विलांस ऑफीसर का कहना था कि व्यवस्था शाम तक टीम के बैठने की कर दी जाएगी। इसके बाद गैर प्रदेशों से आने वालों की जांच सुचारू की जा सकेगी। 

सीएमओ डाॅ सुनीता चुफाल का कहना है कि नए कोविड वैरियंट ओमिक्रोन की रोकथाम और सतर्कता के लिए मुख्यालय से गाइडलाइंस मिली हैं। उसके अनुसार ही रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन और खास तौर पर बॉर्डर पर कोविड जांच और सैम्पलिंग की जानी है। इसकी व्यवस्था के लिए स्थानीय स्तर पर पुलिस प्रशासन का सहयोग लेने के लिए एसएसपी उधम सिंह नगर को पत्र लिखा गया है।

Edited By: Prashant Mishra