जासं, हल्द्वानी: कोरोना की चपेट में आने से कुमाऊं के दो पुलिसकर्मियों ने दम तोड़ दिया। दोनों को उपचार के लिए डा. सुशीला तिवारी कोविड अस्पताल लाया गया था। इसमें से नैनीताल के पुलिसकर्मी ने अस्पताल पहुंचने से पहले दम तोड़ दिया था।

एसटीएच के चिकित्सा अधीक्षक डा. अरुण जोशी ने बताया कि नानकमत्ता के पुलिसकर्मी की मौत हुई है। वह कोरोना संक्रमित भी थे। पुलिस के मुताबिक मूल रूप से ग्राम गुशगांव, थाना थल, जनपद पिथौरागढ़ निवासी सुरेंद्र सिंह ज्याला पुत्र पान सिंह 1990 में पुलिस विभाग में भर्ती हुए थे और वर्तमान में थाना नानकमत्ता में तैनात थे। जांच में कोरोना रिपोर्ट पाजिटिव निकलने पर 26 सितंबर को उन्हें रुद्रपुर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां तबीयत में सुधार नहीं होने पर एसटीएच लाया गया, जहां सोमवार रात ही उनकी मौत हो गई।

वहीं नैनीताल मल्लीताल थाने में तैनात 58 वर्षीय दारोगा केशव लाल सर्दी-जुकाम, बुखार से पीड़ित थे। उन्हें बीडी पांडे अस्पताल में भर्ती किया था। जांच में कोरोना पाजिटिव पाए गए थे। स्थिति गंभीर होने पर हायर सेंटर रेफर किया गया था, मगर एसटीएच पहुंचने से पहले ही दम तोड़ दिया। वह मूल रूप से पिथौरागढ़ मूलडुंगड़ी गांव के निवासी थे। कोतवाल अशोक कुमार ने बताया कि बुधवार को बैरक और कोतवाली में तैनात अन्य पुलिसकर्मियों का कोविड टेस्ट कराया जाएगा।

इधर, पुलिसकर्मियों के निधन की सूचना मिलने पर महकमे में भी शोक की लहर दौड़ पड़ी। हल्द्वानी कोतवाली में एसएसपी सुनील कुमार, एसपी सिटी अमित श्रीवास्तव और सीओ शांतनु पराशर समेत अन्य जवानों ने पुष्प अर्पित कर जवान को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान कोतवाल संजय कुमार, एलआइयू इंस्पेक्टर दीप भट्ट, एसएसआइ कश्मीर सिंह, एसआइ दीपा जोशी, एसआइ लता बिष्ट आदि मौजूद रहे। वहीं, इससे पूर्व बागेश्वर में तैनात दारोगा जगदीश प्रसाद व 46वीं वाहिनी पीएसी के प्लाटून कमांडर शिवराज सिंह राणा भी कोरोना की वजह से जान गंवा चुके हैं।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021