विनोद पपनै,रामनगर : कोरोना की दूसरी लहर में रामनगर भी बुरी तरह महामारी की चपेट में रहा। एक मार्च 2021 से मई माह के मध्य तक रामनगर में 2373 से ज्यादा मरीज कोरोना की चपेट में आ गए थे। ऑक्सीजन लेवल गिरा तो कई मरीजों को हल्द्वानी स्थित सुशीला तिवारी अस्पताल भेजा गया जो कि पहले से ही कुमाऊं भर के बोझ के कारण ऑक्सीजन बेड की कमी से जूझ रहा था। ऐसे में दूसरी लहर में रामनगर क्षेत्र के भी कई मरीजों को अपनी जान गंवानी पड़ी। ऐसे में अब स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने रामदत्त जोशी अस्पताल में दो आक्‍सीन प्‍लांट तैयार कर लिया है। 15 अगस्‍त से दोनों प्‍लांटों से उत्‍पादन शुरू हो जाएगा।

तीन बार दिया हाईकोर्ट ने आदेश

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान अधिवक्ता दुष्यंत मैनाली की कोरोना मैनेजमेंट के मामले में दायर अपनी जनहित याचिका में भी यह मामला उठाया था। जिस पर हाईकोर्ट ने 28 अप्रैल को सरकार को रामनगर में तत्काल कोविड हेल्थ सेंटर की सुविधा स्थापित करने के आदेश सरकार को दिए। हाईकोर्ट के आदेश के अनुपालन में सरकार द्वारा पीरुमदारा स्थित नीम करौली अस्पताल में 20 बेड का अस्थाई कोविड-19 सेंटर स्थापित कर दिया गया और कोर्ट को सूचना दे दी गई। बावजूद इसके नीम करौली अस्पताल में 20 से अधिक कोरोना मरीजों की मौत हुई। जबकि महज 20 बेड उपलब्ध होने से व्यवस्था नाकाफी ही रही।

पृथक कोविड-19 हेल्थ सेंटर बनाने के आदेश

छह जून को हुई हाईकोर्ट में अगली सुनवाई में याचिकाकर्ता ने फिर यह विषय उठाया और आगामी तीसरी लहर को आशंका को देखते हुए राम दत्त जोशी अस्पताल में आधुनिक ऑक्सीजन युक्त सुविधा स्थापित करने की मांग की। जिस पर हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को संयुक्त अस्पताल में ऑक्सीजन युक्त बेडों की सुविधा और ऑक्सीजन आपूर्ति स्थापित करने के आदेश दिए। जिस पर हाईकोर्ट में स्वास्थ्य सचिव ने आदेश का अनुपालन करने का आश्वासन दिया था। हाईकोर्ट में विगत 23 जून को हुई सुनवाई में अधिवक्ता मैनाली की याचिका पर ही खंडपीठ ने रामनगर में भविष्य के लिए ऑक्सीजन युक्त पृथक कोविड-19 हेल्थ सेंटर स्थापित करने का आदेश दिया।

15 अगस्त तक चालू हो जाएंगे प्‍लांट

हाईकोर्ट के 23 जून को दिए गए आदेश के बाद अधिकारियों ने आनन-फानन में तत्कालीन मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के हाथों 27 जून को हल्द्वानी दौरे में सर्किट हाउस हल्द्वानी में जनपद की अन्य योजनाओं के साथ ही स्व.राम दत्त जोशी अस्पताल रामनगर में प्रस्तावित किए 2.94 करोड़ लागत के ऑक्सीजन प्लांट का शिलान्यास भी करवा लिया था। अब कोर्ट को बताया है 15 अगस्त तक चालू हो जाएंगे दोनों ऑक्सीजन प्लांट।

स्वास्थ्य सचिव ने दायर किया शपथ पत्र

कोर्ट के 23 जून के आदेश के अनुपालन में स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी द्वारा 27 जुलाई को अपना शपथ पत्र दायर किया गया है और उसमें कोर्ट को सरकार ने बताया है कि रामनगर में स्थित राम दत्त जोशी संयुक्त चिकित्सालय में कोर्ट के आदेशों के अनुपालन में ऑक्सीजन पाइप लाइन स्थापित कर दी गई है, जिसमें 100 बेड की क्षमता वाले इस अस्पताल के 50 बेड भविष्य में कोविड-19 के लिए चिन्हित किए गए हैं। साथ ही सरकार की ओर से स्वास्थ्य सचिव ने कोर्ट को यह भी जानकारी दी है कि राम दत्त जोशी संयुक्त चिकित्सालय में 500 लीटर प्रति मिनट क्षमता के दो ऑक्सीजन प्लांट भी स्थापित किए जा रहे हैं जो कि 15 अगस्त 2021 से चालू कर दिए जाएंगे। अगली सुनवाई में 18 अगस्त 2021 को हाईकोर्ट इस दावे की हकीकत परखेगा।

 

Edited By: Skand Shukla