संवाद सहयोगी, रामनगर: स्वास्थ्य विभाग की बेहतर स्वास्थ्य सेवा की मंशा पर कुछ चिकित्सक पलीता लगा रहे हैं। यही वजह है कि अब तक तीन चिकित्सक आने से मना कर चुके हैं। दो चिकित्सक ज्वाइन करने के बाद ही बिना स्वीकृति अवकाश के गायब है। ऐसे में मरीजों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

कुमाऊं व गढ़वाल के प्रवेशद्वार पर स्थित संयुक्त चिकित्सालय यूं तो रेफर सेंटर बनकर रह गया है। बीते दिनों शासन ने एक महिला विशेषज्ञ समेत तीन चिकित्सकों के तबादले रामनगर के लिए किए थे। इनमें से एक महिला चिकित्सक ने तो ज्वाइन कर लिया। दो चिकित्सकों ने अब तक ज्वाइन नहीं किया। रेडियोलॉजिस्ट के अभाव में बंद अल्ट्रासाउंड शुरू कराने के लिए संविदा पर एक चिकित्सक भेजा गया था। उन्होंने भी तैनाती लेने से मना कर दिया। इसी दौरान नेत्र चिकित्सक ऊषा बाटला व फिजिशियन विकास झा को रामनगर भेजा गया। चिकित्सालय से मिली जानकारी के मुताबिक चिकित्सक बाटला ने दो मई तो झा ने दस मई को ज्वाइन किया। बाटला ने दो दिन व झा ने नौ दिन ड्यूटी की। इसके बाद से वह अवकाश पर चले गए। इसी दौरान सीएमओ भारती राणा चिकित्सालय पहुंची थी। उन्हें चिकित्सा कर्मियों ने बताया था कि दोनों चिकित्सकों ने कोई अवकाश स्वीकृत नहीं कराया है। चिकित्सकों के बाबत आलाधिकारियों को दो बार रिपोर्ट भेजी जा चुकी है। सीएमओ को भेजी जा चुकी है रिपोर्ट

टीके पंत, प्रभारी सीएमएस, संयुक्त चिकित्सालय ने बताया कि दोनों चिकित्सकों ने अब तक ज्वाइन नहीं किया है। ज्वाइन नहीं करने के क्या कारण हैं, उन्हें नहीं पता। इस बारे में सीएमओ को रिपोर्ट भेजी जा चुकी है।

Posted By: Jagran