जागरण संवाददाता, नैनीताल। सरोवर नगरी में टमाटर के दाम रिटेल में सौ रुपये पहुंच गए हैं। इससे घरों में सब्जी का जायका बिगड़ गया है। कारोबारियों के अनुसार अगले करीब दस दिन बाद स्थानीय टमाटर की आवक होने के बाद ही दाम में कमी आएगी। हालांकि बारिश में हमेशा की तरह इस बार भी टमाटर की फसल खराब होने से अभी कम होने की उम्मीद नहीं है।

किसानों के अनुसार टमाटर की फसल नाजुक होती है। बारिश में यह जल्दी खराब हो जाती है। साथ ही बाहर से मंगाए जाने पर इसके दाम आसमान छूने लगते हैं।

शहर में सब्जियों के दाम में उछाल ने लोगों के घर का बजट बिगड़ गया है। पहले प्याज के महंगे दाम ने आंसू निकाले तो अब टमाटर के महंगे दाम ने सब्जियों का जायका बिगाड़ दिया है। दो सप्ताह पहले तक प्रतिकिलो अर्द्ध शतक लगा चुका टमाटर अब रिटेल में शतक  लगा चुका है।

मल्लीताल आढ़त में सब्जियों के थोक कारोबारी हिमांशु जोशी के अनुसार यहां आजकल टमाटर की आपूर्ति बंगलुरू व नासिक से हो रही है। थोक में 25 किलो की पेटी 1400-1500 रुपये में आ रही है। जिसमें 22-23 किलो टमाटर साबूत निकलता है। पहाड़ की शिमला मिर्च थोक में 40 जबकि बीन 60 रुपये प्रतिकिलो बिक रही है।

जबकि रिटेल में दाम 80 रुपये हो गए हैं। एक सप्ताह पहले तक 15 रुपये प्रतिकिलो बिक रहा प्याज अब बढ़कर थोक में 24 रुपये पहुंचे हैं। नैनीताल में समीपवर्ती गांव की सब्जियां भी आने लगी हैं लेकिन इन सब्जियों में भी महंगाई का करंट ग्राहकों को लग रहा है। कारोबारियों के अनुसार अगले करीब दस दिन में हल्द्वानी गौलापार व आसपास से टमाटर की आपूति होने पर ही दाम में गिरावट आएगी। हालांकि बारिश में ऐसा हो पाने की उम्मीद कम ही है।

Edited By: Prashant Mishra