रुद्रपुर, जेएनएन : जिले में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। शनिवार को तीन साल के मासूम सहित तीन लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। तीनों संक्रमित कुछ दिन पहले ही गुजरात और मुंबई से वापस लौटे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ट्रेवल हिस्ट्री व कांटैक्ट ट्रेसिंग में लगे हैं। तीन मामले मिलने के बाद जिले में कोरोना संक्रमिल लोगों की संख्या 34 हो गई है। जबकि प्रवासियों के आने का सिलसिला लगातार जारी है। जिससे कोरोना के मामले और ज्यादा बढ़ने की संभावना है। जिले में मिले तीनों कोरोना संक्रमितों को इलाज के लिए सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी भेजा जा रहा है।

पिता के बाद बेटा संक्रमित

गदरपुर के रामजीवनपुर निवासी तीन साल का मासूम बीते 11 मई को ही अपने माता-पिता व सात साल की बहन के साथ अहमदाबाद से घर के लिए निकला। मासूम का पिता बीते एक साल से अहमदाबाद में कपड़े सिलने का काम कर रहा था। उसका पिता 12 मई को रामपुर रेलवे स्टेशन से अपनी ससुराल ग्राम हरेटा, थाना अजीम नगर, जिला रामपुर पहुंचा। करीब चार दिन ससुराल में रहने के बाद वह 17 मई को सपरिवार सकैनिया बार्डर होता हुआ सुबह आठ बजे अपने घर पहुंचा। भाई के समझाने पर युवक पूरे परिवार के साथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गदरपुर गया। जहां स्वास्थ जांच के बाद सभी को पंतनगर में क्वारंटाइन कर दिया गया। 20 मई को मासूम बच्चे का पिता कोरोना संक्रमित पाया गया। शनिवार को तीन साल के मासूम की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव मिली है।

दो दोस्तों के साथ लौटा घर

जसपुर के नई बस्ती निवासी 42 साल का युवक अहमदाबाद, गुजरात में बेकरी में काम करता था। लॉक डाउन में काम बंद होने के बाद वह अपने दो दोस्तों के साथ साबरमती ट्रेन से वापस लौटा। 20 मई को दिल्ली पहुंचने के बाद तीनों ने एक कार किराए पर ली और नगीना पहुंच गए। उसके दो दोस्त जावेद और इजाजुल नगीना में ही उतर गए, जबकि युवक वहां से वह लिफ्ट लेता हुआ व पैदल सफर तय करके सीएचसी जसपुर पहुंचा। जहां स्वास्थ जांच के बाद उसे कुमाऊॅ मंडल विकास निगम के अतिथि गृह में आइसोलेट कर दिया गया। शनिवार को उसकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है।

लॉक डाउन ने घर लौटाया

पिथौरागढ़ के बनकोट गांव निवासी 22 साल का युवक मुुंबई में रहकर नौकरी कर रहा था। लॉकडाउन के दौरान रोजगार प्रभावित होने से वह वापस लौटने की तरकीब सोचने लगा। मुंबई से ट्रेन के जरिए वह हरिद्वार पहुंचा। हरिद्वार से बस के जरिए 21 मई को यात्रियों को जिला मुख्यालय के राधा स्वामी सत्संग ब्यास परिसर लाया गया। जहां उसकी कोरोना जांच की गई। कोरोना जांच के बाद उसे जिला अस्पताल में आइसोलेट कर दिया गया। शनिवार को आई जांच रिपोर्ट में उसे कोरोना संक्रमित पाया गया। डॉ. हरेंद्र मलिक, एसीएमओ, ऊधमसिंह नगर ने बताया कि कोरोना संक्रमित पाए गए तीनों कोरोना संक्रमित की कांटैक्ट ट्रेसिंग व ट्रैवल हिस्ट्री पर कार्य किया जा रहा है। जिसके बाद सभी को इलाज के लिए एसटीएच हल्द्वानी भेजा जाएगा।

बाहर का खाना ऑर्डर करने से डर रहे लोग, रेस्‍टोरेंट में भी महज कन्फेक्शनरी आइटम मांग रहे 

नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने पौड़ी के ग्राम प्रधान की जनसेवा को राज्‍य के लिए मिसाल बताया  

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस