रुद्रपुर, जेएनएन : भरण पोषण के मामले की सुनवाई के बाद कोर्ट परिसर के बाहर आई किच्छा निवासी महिला को पति ने तीन तलाक दे दिया। साथ ही महिला से गालीगलौज करते हुए मारपीट भी की। इस मामले में पीड़िता ने प्रधानमंत्री कार्यालय में शिकायत की। जहां से मुख्यमंत्री के पास मामला पहुंचा और इसके बाद सीएम पोर्टल के माध्यम से मामला पुलिस तक पहुंचा। पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर आरोपित पति के खिलाफ मारपीट और तीन तलाक का केस दर्ज कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक इस्लामनगर, बंडिया किच्छा निवासी महिला ने सौंपी तहरीर में कहा था कि उसका विवाह 2012 में मुस्लिम रिति रिवाज से नौगंवा, मलपुरा किच्छा निवासी फिरोज मलिक पुत्र इकबाल से हुआ था। विवाह में उसके मायके वालों ने हैसियत के मुताबिक दान दहेज भी दिया। लेकिन शादी के बाद से ही पति दहेज के लिए उसका उत्पीड़न करने लगा। काफी समझाने के बाद भी जब पति नहीं माना तो वह अलग रहने लगी और भरण पोषण के लिए न्यायालय में आवेदन कर दिया।

पीड़िता का कहना था कि 30 जुलाई 2019 की शाम वह चार बजे कोर्ट परिसर से बाहर आई। उसके साथ उसकी बहन और भांजा भी था। बाहर आते ही उसके पति फिरोज ने रास्ता रोक लिया और उससे गालीगलौज करते हुए मारपीट की। कहा कि उसे खर्चा देने से अच्छा वह उसे तलाक देता है। यह कहकर पति ने तीन बार तलाक-तलाक कहकर तलाक दे दिया। इसके बाद पीड़िता ने प्रधानमंत्री कार्यालय में शिकायत की। जहां से मामला मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंचा।

मुख्यमंत्री कार्यालय में 31 जुलाई 2020 को मेल सीएम पोर्टल के माध्यम से पंतनगर पुलिस को मिली। जिस पर पुलिस ने पीड़ित को संपर्क किया। रविवार को पीड़िता पंतनगर थाने पहुंची और शिकायती पत्र सौंपा। पीड़िता की शिकायत के आधार पर पंतनगर थाना पुलिस ने आरोपित पति फिरोज के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पंतनगर एसओ अशोक कुमार ने बताया कि तीन तलाक का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है, जल्द ही आरोपित के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस