काशीपुर, जेएनएन : सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्यमंत्री व फरीदाबाद के सांसद कृष्णपाल गुर्जर शुक्रवार को काशीपुर एक निजी कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे। इस दौरान मीडिया से मुखातिब होते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा सैद्धांतिक विचार धारा वाली पार्टी है। जिसमें सभी को सम्मान दिया जाता है। कांग्रेस पार्टी परिवारवाद से कभी उबर ही नहीं सकी और यही कारण है कि कांग्रेस में युवा नेताओं को दरकिनार किया जा रहा है। हरियाणा में अध्यक्ष पद से अंत समय में उनका नाम हटाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि पार्टी हाइकमान जो तय करती है पार्टी के सभी नेता उस निर्णय का स्वागत करते हैं। अध्यक्ष पद पर उनका नाम आगे आने की अटकलों को उन्होंने खारिज करते हुए कहा जब मैं पहले से मंत्री पद पर कार्यरत हूं तो अध्यक्ष कैसे बन सकता हूं।

काशीपुर में होटल व्यवसायी केपी सिंह से शिष्टाचार मुलकात करने पहुंचे केन्द्रीय मंत्री कृष्णपाल सिंह गुर्जर ने प्रेसवार्ता की। इस दौरान उन्होने कहा कि भाजपा की केन्द्र व प्रदेश सरकारें कोविड काल में लोककल्याणकारी योजनाओं को तेजी से अमल में ला रही हैं, जिसका लाभ सीधे तौर पर लाभ आम आदमी को मिला। केन्द्रीय मंत्री ने उत्तराखंड सरकार के मुखिया त्रिवेन्द्र सिंह रावत की भी जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि त्रिवेंद्र सिंह ने अपनी बेदाग छवि के मुताबिक काम किया है और विकास के विजन के साथ प्रदेश को आगे लेकर बढ़ रहे हैं। इस दौरान स्थानीय विधायक हरभजन सिंह चीमा के साथ बैठकर उन्होंने विभिन्न विकास योजनाओं पर भी बातचीत की।

 

हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष पद को लेकर कोई मतभेद नहीं

हरियाणा में एक समय था कि फरीदाबाद से विधायक कृष्णपाल गुर्जर का अध्यक्ष पद में नाम सबसे आगे चल रहा था लेकिन अंत समय में जाट समुदाय से ओमप्रकाश धनकड़ को यह जिम्मेदारी सौंप दी गई। शुक्रवार को काशीपुर पहुंचे केन्द्रीय मंत्री से जब हरियाणा के प्रदेश अध्यक्ष को लेकर सवाल किए गए तो उन्होने कहा कि भाजपा कभी जात- पात की राजनीति नहीं करती। हम विकास की राजनीति करते हैं। जहां तक प्रदेश अध्यक्ष की बात है तो यह फैसला पार्टी हाईकमान की तरफ से लिया गया। पार्टी हाईकमान जो फैसला देती है सभी नेता उसका स्वागत करते हैं। पार्टी अध्यक्ष के नाम पर उनका नाम आगे आने की खबरों को उन्होंने कहा कि जब मैं पहले से केन्द्र में पार्टी की तरफ से जिम्मेदारी निभा रहा हूं तो दूसरा पद कैसे लेे सकता हूं हमारी पार्टी में दोहरे पदों पर रहने का कोई नियम नहीं है और न ही मैं इसके लिए इच्छुक था।

 

सचिन पायलट को लेकर संभल कर दिया जवाब

राजस्थान में कांग्रेस सरकार में चल रहे गतिरोध व कांग्रेसी नेता सचिन पायलट के भाजपा में शामिल होने की अटकलों पर जब सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी एक परिवार तक सिमट कर रह गई है जहां युवा नेताओं का कोई सम्मान नहीं है। भाजपा में उनके शामिल होने की संभावनाओं के सवाल को वह टाल गए।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस