जागरण संवाददाता, रामनगर। मछली मारने नदी में उतरे दो युवकों की जान पर बन आयी। अचानक नदी का जल स्तर बढ़ जाने के कारण कोसी नदी के टापू में फसे युवक अपनी जान बचाने के लिए चिल्लाने लगे। मगर उनकी आवाज बाढ़ की आवाज के सामने मन्द पड़ गयी। तभी कुछ लोगो की नजर उनपर पड़ी तो लोगो ने पुलिस को फोन किया। आनन फानन में प्रसासन ओर एनडीआरफ की टीम पुलिस के साथ टीम मौके पर पहुचीं। टीम ने युवकों को निकालने के लिए अभियान जारी कर दिया है।

कोतवाल अबुल कलाम ने बताया कि शुक्रवार की साम मोहल्ला खताड़ी इन्दिरा कॉलोनी निवासी इमरान व शादाब नाम के दो युवक कोसी नदी में मछली मारने के लिए गए थे इसी दौरान पर्वतीय क्षेत्रों में हो रही मूसलाधार बारिश के कोसी नदी में जलस्तर बढ़ गया जिसमें उक्त दोनों युवक फस गए सूचना पर एसडीएम विजय नाथ शुक्ल,सीओ बलजीत भाकुनी,एसएसआई जयपाल सिंह चौहान और अग्निशमन विभाग के एफएसओ किशोर उपाध्याय पुलिस बल के साथ कोसी नदी के पंपापुर क्षेत्र इलाके में पहुंचे और युवकों के निकालने के लिए लगभग पाँच घंटे की मशक्कत के उपरांत देर रात सफलता प्राप्त की।

उन्होंने बताया कि यह तीन युवक थे एक पहले ही कोसी का जलस्तर बढ़ने से पहले निकलकर चला गया था।उन्होंने बताया कि मोहल्ला पम्पापुरी क्षेत्र के राजू व गोविंद ने भी युवकों को निकालने में पुलिस की मदद की।कोतवाल ने बताया कि दोनों युवकों का मेडिकल कराया गया है। कोतवाली में उनके परिजनों को बुलाकर उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा।

चेतावनी के बाद भी बाज नही आ रहे है लोग

सिचाई विभाग द्वारा इन दिनों रेड अलर्ट जारी किया गया है। नदी में न उतरने की चेतावनी के बोर्ड भी लगाए है इसके बाबजूद लोग नदी में दिशा मैदान जाने, मछली मारने ओर नदी के किनारे फ़ोटो खिंचवाने से बाज नही आ रहे है। उधर एसडीएम विजय नाथ शुक्ल ने निर्देश जारी किये है कि यदि कोई भी ब्यक्ति नदी में उतरता पाया गया तो उसके खिलाफ फौरी तौर पर मुकदमा कायम किया जाए।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Prashant Mishra