जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : मानसून की विदाई नजदीक है। अगले दो से तीन दिन के भीतर उत्तराखंड से मानसून विदा ले लेगा। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि मानसून की विदाई के बाद अधिकतम तापमान में तेजी आएगी। कुमाऊं लिहाज से देखा जाए तो पिछले दस वर्षों में अक्टूबर का महीना सबसे अधिक गर्म 2017 में रहा था। तब 19 अक्टूबर को पंतनगर का अधिकतम तापमान 35.8 डिग्री पहुंचा था। जबकि दस वर्षों में सबसे कम गर्म 2019 में रहा, तब तापमान 32.5 डिग्री पहुंचा था। सर्वाधिक गर्म अक्टूबर 1987 में रहा था। तब पंतनगर का तापमान 38 डिग्री के स्तर तक जा पहुंचा था। 

कुमाऊं के प्रमुख स्टेशनों का तापमान 

स्टेशन         अधिकतम     न्यूनतम 

हल्द्वानी       31.7          23.5

नैनीताल      22.5          14.0

रुद्रपुर         33.4          23.3

गंगोलीहाट    25.1          16.2

अल्मोड़ा       30.2         16.7

पिथौरागढ़     28.0          17.4

जागेश्वर      21.2          15.3

अक्टूबर में दो दिन से कम बारिश का औसत 

मौसम विभाग के दीर्घ अवधि के औसत के अनुसार कुमाऊं के तराई में अक्टूबर में 1.6 दिन बारिश होती है। पूरे महीने में 40.7 मिमी बारिश होती है। वार्षिक बारिश का यह तीन फीसद से भी कम होता है। जीबी पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय पंतनगर के मौसम विज्ञानी डा. आरके सिंह का कहना है कि सर्दियों में उत्तराखंड में कम बारिश कम होती है। 

यह कहता है बारिश का ट्रेंड 

बारिश का पिछले 10 वर्षों का ट्रेंड बताता है कि तीन साल ऐसे रहे जब तराई में अक्टूबर में बूंदाबांदी तक नहीं हुई। वर्ष 2020 से पहले 2017, 2012 व 2011 में अक्टूबर बिना बारिश के बीत गया था। इससे उलट 2013 में पूरे माह 55.2 मिमी बारिश हुई थी। 2014 में 55.2 मिमी बारिश हुई। यह लंबी अवधि के औसत बारिश से अधिक है। अन्य वर्षों में छिटपुट बारिश हुई। हालांकि मासिक आंकड़ा पांच मिमी तक नहीं पहुंच पाया।

Edited By: Prashant Mishra