टीम जागरण, अल्मोड़ा/रानीखेत: अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर नई सुबह व नई ऊर्जा के साथ लोगों ने भारतीय पुरातन संस्कृति से जुड़ी विविध विधाओं का अभ्यास किया। नगरीय क्षेत्र ही नहीं गांव गांव में महासंकट को पूरी तरह मात देने के लिए 'करो योग रहो निरोग' का संदेश दिया गया। कई इलाकों में सूर्य की पहली किरण के साथ ही उत्साहित बच्चों ने योगासन का श्रीगणेश किया। इस बार भी महामारी के कारण समूह के बजाय अकेले या कम संख्या में शारीरिक दूरी का पालन कर योगाभ्यास किया।

योग दिवस पर अध्यात्म की नगरी द्वाराहाट (पौराणिक द्वारका) से वैदिककालीन 'क्रिया योग' को पुनर्जीवित कर देश दुनिया के सामने लाने वाले परमहंस योगानंद की मन की शांति से ईश्वर केक साक्षात्कार का संदेश दे व्याख्यान व योगासन किए गए। सकारात्मक तरंगों से लबरेज युग पुरुष की तपोस्थली काकड़ीघाट में कोसी व सिरौता नदी के संगम तट पर स्वामी विवेकानंद सेवा समिति की ओर से योगाभ्यास कराया गया। वहीं युगनायक की ध्यान स्थली स्याहीदेवी के दिव्य वनक्षेत्र से साहसिक पर्यटन से जुड़े युवाओं ने निरोगी काया के लिए योग की महत्ता बताई।

मैदान में दिखी योग की उमंग

बाजपुर : अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर भारतीय योग संस्थान की स्थानीय इकाई के तत्वावधान में कायर्क्रम आयोजित किया गया जिसमें संस्थान से जुड़े प्रशिक्षक ओपी अग्रवाल द्वारा योग क्रियाएं करवाई गईं।

सोमवार को श्री राम भवन धर्मशाला के श्री राम जानकी मंडप हाल परिसर में कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए आयोजित योग कार्यक्रम का शुभारंभ प्रसिद्ध योग प्रशिक्षक व भारतीय योग संस्थान के महामंत्री कैलाश चंद्र जोशी व ओमप्रकाश अग्रवाल द्वारा संयुक्त रुप से मां सरस्वती के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्वलित कर किया गया।

इसके पश्चात प्रशिक्षकों की अग्रवाल द्वारा विभिन्न योगासन करवाए गए। इस मौके पर कैलाश जोशी ने कहा कि योगासन करने से शरीर, प्राणायाम से मन व ध्यान करने से चित्त की शुद्धि होती है। वर्तमान कोरोनकाल के इस समय में योग की महतत्वता और भी बढ़ गई है, क्योंकि जो लोग योग को मजाक समझते थे वो भी योग को अपना रहे हैं। इस मौके पर रामगोपाल यादव, सुखविंदर सिंह, नरेश चौहान, सोमपाल, अनिल कौशिक, गौरव शर्मा, सुरेश जिंदल, हिमांशु, महिपाल यादव, महिपाल सिंह चौहान, ओमप्रकाश गर्ग, पार्वती जोशी, राधा तिवारी, अनुपमा शर्मा, किरण सिंघल, बीना बहल, चारु गुप्ता, उर्वशी जिंदल, शारदा देवी आदि मौजूद थे।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Prashant Mishra