गरमपानी, [जेएनएन]: गणित की किताब न लाने पर गुरूजी अपना आपा खो बैठे और उन्होंने बच्चों पर पूरी तरह से गु्स्सा उतारा। आरोप है कि शिक्षक ने 19 विद्यार्थियों को पहले तो एक घंटे तक तक मुर्गा बनाए रखा और फिर बांस के डंडे से पिटाई की। दो बच्चों को उनके परिजन सीएचसी गरमपानी में उपचार को लाए। उधर, प्रधानाचार्य ने आरोपित शिक्षक से स्पष्टीकरण मांगा है।

मामला अल्मोड़ा-हल्द्वानी हाईवे स्थित जीआइसी रातीघाट का है। शुक्रवार को शिक्षक मो. आरिफ ने गणित की किताब न लाने पर सातवीं के करीब 19 विद्यार्थियों को पीट दिया। इससे पूर्व उन्हें घंटेभर तक मुर्गा बनाया गया। हरतपा निवासी आनंद रौतेला अपने बेटे मनीष व पड़ोसी भुवन बृजवासी की बेटी हिमानी को सीएचसी गरमपानी में उपचार कराने लाए।

 दोनों बच्चों ने बताया कि उन्हें शिक्षक ने दोनों हाथों में 16-16 डंडे मारे हैं।  साथ ही चेतावनी दी कि अगर अगली बार किताब न लाए तो दोबारा पीटा जाएगा। प्रभारी प्रधानाचार्य व अन्य शिक्षक बीच बचाव को पहुंचे, जिसे बाद वो शांत हुए। अभिभावक आनंद सिंह ने आरोपित शिक्षक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग भी उठाई।

मनीष व हिमानी को जब सीएचसी गरमपानी लाया गया तो पीछे-पीछे प्रधानाचार्य आनंद नाथ ओझा व अन्य शिक्षक भी पहुंच गए। मनीष के पिता आरोपित शिक्षक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की बात पर अड़े रहे। हालांकि, शिक्षकों व प्रभारी प्रधानाचार्य के समझाने पर वह कानूनी कार्रवाई न करने पर मान भी गए। मगर, अभिभावक ने प्रधानाचार्य व शिक्षकों से हाथ जोड़ ऐसे शिक्षक के खिलाफ कठोर कार्रवाई का आग्रह किया। 

प्रभारी प्रधानाचार्य आनंद नाथ ओझा का कहना है कि जानकारी मिलने पर बच्चों को हमने ही बचाया। संबंधित शिक्षक से स्पष्टीकरण मांगा गया है, साथ ही उच्चाधिकारियों को संबंधित शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई के लिए लिखा जाएगा।

अभिभावक आनंद रौतेला ने बताया कि गणित की किताब बाजार से खरीदने को कहा गया है। बाजार में किताब उपलब्ध नहीं है तो किताब कहां से दिलवाएं। उनका कहना है कि विद्यार्थियों को पीटने वाले शिक्षक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: शिक्षिका ने तीसरी कक्षा के छात्र को बुरी तरह पीटा, परिजन आक्रोशित

यह भी पढ़ें: मीटर रीडिंग करने गई टीम के एक कर्मी को बनाया बंधक, मारपीट

यह भी पढ़ें: जिला पंचायत के सदस्यों ने सीडीओ को बनाया बंधक

 

Posted By: Raksha Panthari