लोहाघाट (चम्पावत), जेएनएन : जीआइसी रौशाल में तैनात प्रवक्ता की शनिवार को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। शिक्षक की ड्यूटी पंचायत चुनाव में पीठासीन अधिकारी के तौर पर लगाई गई थी, लेकिन नशे की हालत में निर्वाचन सामग्री लेने पहुंचने पर आरओ ने उन्हें कार्यमुक्त कर दिया था। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया। बाराकोट विकास खंड के केशव राम (58) पुत्र बचीराम निवासी सुराकोट वर्तमान में नेपाल सीमा से लगे जीआइसी रौशाल में प्रवक्ता के पद पर कार्यरत थे। उनकी पंचायत चुनाव में टनकपुर सैलानीगोठ बूथ पर पीठासीन अधिकारी के पद पर ड्यूटी लगी थी।

शुक्रवार को पोलिंग पार्टी की रवानगी के दिन वह नशे की स्थिति में ब्लॉक मुख्यालय पहुंचे थे। जहां उनका मेडिकल कराया गया तो शराब पीने की पुष्टि हुई। जिस पर डीएम एसएन पांडे ने उन्हें चुनाव ड्यूटी से कार्यमुक्त करते हुए सीईओ को विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए थे। रिटर्निंग ऑफिसर ने उनकी जगह रिजर्व से दूसरे कर्मचारी की ड्यूटी लगा दी थी। शनिवार को प्रवक्ता केशव राम की अचानक तबियत खराब हो गई। परिजन आनन-फानन में उन्हें अस्पताल ले गए। जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया। घटना से परिवार में कोहराम मचा है। परिजन शव लेकर अपने पैतृक गांव चले गए। मृत के बड़े भाई धर्मराम व छोटे भाई बेनी राम भी शिक्षक के पद पर कार्यरत हैं। इधर, एसडीएम आरसी गौतम ने कहा कि शिक्षक की ड्यूटी पीठासीन अधिकारी में टनकपुर लगी हुई थी। शराब के नशे में मिलने के कारण उन्हें घर भेज दिया गया था। उनकी मौत हार्ट अटैक से बताई जा रही है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत का वास्तविक कारण पता चल सकेगा।

यह भी पढ़ें : dengue हल्द्वानी में दो और लोगों की डेंगू से मौत, अब तक हो चुकी है 17 लोगों की मौत

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप