चम्पावत, जागरण संवाददाता : चंपावत जिले में मंगलवार की देर रात से मूसलधार बारिश जारी है। बुधवार की शाम 6:15 बजे टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग 37 घंटे बाद खुला लेकिन चार घंटे बाद ही विभिन्न स्थानों पर मलबा आने से रात 10 बजे फिर बंद हो गया। हाईवे पर सैकड़ों वाहन फंसे हुए हैं। सुबह आठ बजे अमोड़ी के पास पहाड़ी दरकने के सड़क का बड़ा हिस्सा मलबे से पट गया है। सड़क खोलने का काम जारी है। इधर विद्युत पोल क्षतिग्रस्त होने से चल्थी क्षेत्र के 40 गांवों की विद्युत व्यवस्था भंग हो गई है। तीन दिन से बंद 18 ग्रामीण सड़कों पर अभी भी आवागमन सुचारू नहीं हो पाया है। सुबह सात बजे लोहाघाट-पिथौरागढ़ मार्ग पर भारतोली के पास भी मलबा आने से भी दर्जनों यात्री फंस गए हैं। टनकपुर और बनबसा में शारदा नदी का जल स्तर लगातार बढ़ रहा है।

बारिश का कहर सड़कों और आम जरूरत की अन्य चीजों पर जारी है। टनकपुर के टिपनटॉप से लेकर घाट तक एनएच पर यात्रा करना खतरनाक हो गया है। फिर भी सड़क खुलते ही लोग जान की परवाह किए बिना यात्रा कर रहे हैं। इससे दुर्घटना का खतरा बढ़ गया है। बुधवार की शाम 37 घंटे बाद एनएच सुचारू हुआ लेकिन रात में फिर से मलबा आने से आवागमन ठप हो गया। सड़क खुलते ही पुलिस ने दो दिन से फंसे वाहनों को निकाल लिया। गुरुवार की सुबह आठ बजे करीब चम्पावत-पिथौरागढ़ हाईवे पर अमोड़ी स्थित तुलसी होटल से 500 मीटर आगे चम्पावत की ओर पहाड़ी का बड़ा हिस्सा दरक कर सड़क पर आ गया।

इससे 92 वाहनों में 200 से अधिक यात्री फंस गए हैं। चल्थी चौकी प्रभारी हेमंत कठैत ने बताया कि स्वाला, धौन, झालाकुड़ी व सिन्याड़ी बैंड पर भी मालबा आने के कारण आवागमन बंद हो चुका है। इधर सुबह भारतोली के पास बोल्डर और मलबा गिरने से पिथौरागढ़ और चम्पावत की ओर आवागमन कर रहे यात्री भी फंस गए हैं। एनएच के ईई एलडी मथेला ने बताया कि पूरे एनएच को सुचारू करने का काम चल रहा है। तेज बारिश और उपर से गिर रहे मलबे और पत्थरों के कारण मलबा हटाने में दिक्कत हो रही है। सड़क बंद होने के बाद एसडीएम सदर अनिल गब्र्याल, तहसीलदार ज्योति धपवाल ने धौन जाकर स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने एनएच के अधिकारियों को जल्द सड़क खोलने के निर्देश दिए।

गौशाला में गिरे मलबे से नौ मवेशी दबे, एक गाय की मौत

गुरुवार की सुबह पांच बजे पाटी तहसील के भिंगराड़ा के तल्ली खरही गांव में महेश नाथ गोस्वामी की गौशाला में मलबा गिरे से नौ मवेशी दब गए। इनमें से एक जर्सी गाय की मौके पर ही मौत हो गई जबकि तीन गायों, एक बैल और चार बकरियों को निकाकल लिया गया है। ये सभी मवेशी चोटिल हो गए हैं। सूचना के बाद राजस्व विभाग की टीम मौके पर रवाना हो गई है।

देवीधुरा रोड पर भी गिर रहा मलबा

लगातार हो रही बारिश से देवीधुरा रोड पर भी मलबा गिरना शुरू हो गया है। देवीधुरा, मूलाकोट, पाटी, गर्सलेख आदि स्थानों पर गुरुवार की सुबह आंशिक मलबा गिरा, जिसे हटा दिया गया है। एनएच बंद होने के कारण यात्री इसी रूट से हल्द्वानी होते हुए गंतव्य की ओर जा रहे हैं। सड़क बंद होने की दशा में चम्पावत जिले का सड़क संपर्क मैदानी क्षेत्रों से पूरी तरह भंग हो सकता है। प्रशासन ने लोनिवि को अतिरिक्त जेसीबी को भेजने के निर्देश दिए हैं, ताकि तत्काल मलबा हटाया जा सके।

Edited By: Skand Shukla