जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : डा. सुशीला तिवारी की ओपीडी में मरीजों की संख्या बढ़ रही है। सबसे अधिक 91 मरीज मेडिसिन विभाग में पहुंचे। इसमें सांस व जोड़ों के दर्द की शिकायत वाले मरीज अधिक थे, जिन्हें पहले कोविड हुआ था।

एसटीएच के चिकित्सा अधीक्षक डा. अरुण जोशी ने बताया कि ओपीडी में 385 मरीज पहुंचे। मेडिसिन विभाग में पोस्ट कोविड लक्षण वाले मरीज ज्यादा हैं। जिसमें सांस फूलना, जोड़ों में दर्द, छाती में दर्द, थकान आदि लक्षण वाले मरीज हैं। इन मरीजों को उचित सलाह दी गई। पोस्ट कोविड बीमारी का अर्थ है कोरोना से ठीक हो चुके लोगों को जो समस्याएं होती हैं उन्हें इस श्रेणी में रखा जाता है। इसमें सांस लेने, भूलने की बीमारी, थकान, चक्कर आना आदि शामिल हैं। इसके लिए कई जगहों पर पोस्ट कोविड क्लीनिक भी बनाए जा रहे हैं।

कोरोना संक्रमित केवल 55 मरीज भर्ती

एसटीएच में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार घट रही है। चिकित्सा अधीक्षक ने बताया कि इस समय एसटीएच व अस्थायी कोविड अस्पताल में 55 मरीज हैं। इसमें 10 मरीजों की हालत गंभीर है। वहीं ब्लैक फंगस के 15 मरीज भर्ती हैं। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार जिले में 26 लोग संक्रमित पाए गए हैं। होम आइसोलेशन में अब 173 मरीज रह गए हैं। कोरोना में तेजी से कमी आ रही है। घबराने की कोई बात नहीं है। जो मरीज भर्ती हैं उनमें में रिकवरी तेजी से देखी गई है। अब काफी संख्या में मरीज ठीक होकर घर जा रहे हैं।

आज 48 कंद्रों में लगाएं वैक्सीन

एसीएमओ डा. रश्मि पंत ने बताया कि 16 जून को जिले में 45 वर्ष से ऊपर के लिए 31 केंद्र बनाए गए हैं। इसके अलावा 17 केंद्र 18 से 44 वर्ष तक के लिए बनाए गए हैं। विभाग का कहना है कि जल्द ही वैक्सीन की खेप आने वाली है। जिससे कि वेटिंग में लगे या जिनका स्लाट बुक नहीं हो पाया है उन्हें भी जल्द टीका लगेगा।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Prashant Mishra