हल्द्वानी, जेएनएन : आनंद वृद्धाश्रम संचालिका कनक चंद ने भटकते बेसहारा और मानसिक रोगियों के लिए शहर में आश्रय गृह बनाए जाने की मांग की है। चंद का कहना है कि वर्तमान में शहर में कोई भी मानसिक रोगी मिलता है तो उसे वृद्धाश्रम में सामान्य बुजुर्गों के साथ भेज दिया जाता है। कई बार यह खतरनाक हो सकता है। वृद्धाश्रम पदाधिकारियों ने इस मामले में एडीएम एसएस जंगपांगी को ज्ञापन सौंपा।

इस दौरान कनक ने कहा कि हल्द्वानी में कई लोग मानसिक परेशानी से जूझ रहे हैं। अक्सर पुलिस विभाग, अस्पतालों और आम जनता द्वारा उनसे संपर्क कर मानसिक रोगियों को वृद्धआश्रम में आश्रय देने के लिए निवेदन किया जाता है। संख्या लगातार बढ़ रही है। वृद्धाश्रम में वृद्धजनों के बीच दूसरे बीमारों की देखरेख संभव नहीं है। मानसिक संतुलन खोने के कारण विक्षिप्त लोग दूसरों के लिए परेशानी और खतरा उत्पन्न कर सकते हैं। प्रशासन पहल करे तो शहर व ग्रामीण क्षेत्रों में घूमने, रहने वाले और बदहवास जिंदगी जीने वालों को आश्रम दिया जा सकता है। कनक ने कहा कि ऐसे लोगों के लिए नैनीताल जिले में आश्रय गृह निर्मित करने की जरूरत है। एडीएम जंगपांगी ने सार्थक कदम उठाने का आश्वासन दिया है।

यह भी पढ़ें

नो मैंस लैंड पर चौथे दिन भी निर्माण जारी, नेपाली नागरिकों ने एसएसबी पर किया पथराव

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस