हल्द्वानी, जेएनएन : कुछ समय पहले तक मेडिकल स्टोरों में आइवरमेक्टिन टेबलेट की बिक्री नाममात्र की होती थी, लेकिन जैसे ही इस दवा का इस्तेमाल कोरोना पॉजिटिव मरीजों के लिए होना लगा, इसकी बिक्री कई गुना बढ़ गई है। मेडिकल स्टोरों में पहुंचते ही दवा खत्म हो जा रही है।

 

शहर के मेडिकल स्टोरों में पहले इस दवा के दो हजार गोलियां तक बिकती थी। जैसे ही स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने इस दवा को कोरोना पॉजिटिव मरीजों के इलाज में इस्तेमाल करने का आदेश जारी किया था। इसके बाद से ही इस दवा की बिक्री अचानक बढ़ गई। इसके चलते मेडिकल स्टोर में दवा जल्दी खत्म हो जा रही है। केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के मुताबिक ही शहर में इस समय प्रतिमाह 10 हजार टेबलेट बिक्री पहुंच गई है। डिमांड लगातार बढ़ रही है।

 

डॉक्टर की सलाह के बिना न लें दवा

डॉक्टरों का कहना है कि इस दवा का इस्तेमाल बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं करना चाहिए। इसके दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं। डॉक्टर इस दवा का इस्तेमाल व्यक्ति की उम्र व अन्य स्थितियों को देखते हुए करते हैं। संदीप जोशी, सचिव, केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन ने बताया कि दवा की डिमांड बढ़ गई है। हालांकि रेट में कोई अंतर नहीं आया है। जिस रेट पर पहले मिल रही थी। उसी रेट पर आज भी बिक रही है।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस