जागरण संवाददाता, चम्पावत : मंगलवार को हुई भारी बारिश से लोहाघाट-पिथौरागढ़ हाईवे पर भारतोली के पास क्षतिग्रस्त सड़क को एनएच ने फिर से तैयार कर दिया है। पहाड़ी काटकर रोड को नए सिरे से बनाया गया। मंगलवार की देर शाम से ही एनएच पर वाहनों की आवाजाही सुचारू हो गई थी। इधर रात 11 बजे घाट पुल के समीप पहाड़ी का हिस्सा दरकने से एनएच फिर बंद हो गया। शुक्रवार को दिनभर सड़क खोलने का काम जारी रहा, लेकिन देर शाम तक भी सड़क नहीं खोली जा सकी थी।

मंगलवार की रात भर हुई बारिश से भारतोली के पास एनएच का 10 मीटर का हिस्सा बह गया था। इससे मंगलवार की अपरान्ह तक पिथौरागढ़ और चम्पावत जिले का सड़क संपर्क टूटा रहा। देर शाम सड़क के गायब हिस्से की जगह चट्टान काटकर नए सिरे से सड़क बनाई गई, जिसके बाद वाहनों की आवाजाही शुरू हो पाई। देर रात घाट पुल के नजदीक पहाड़ी का बड़ा हिस्सा दरक कर सड़क पर आ गया। गुुरुवार की सुबह से ही दोनों और से जेसीबी और पोकलेंड मशीनें लगाकर मलबा हटाने का काम शुरू किया गया। एनएच के ईई एलडी मथेला ने बताया कि मलबे के साथ बड़े-बड़े बोल्डर आने से सड़क खोलने के काम में तेजी नहीं आ पा रही है। पत्थरों को काटकर हटाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि देर शाम तक सड़क को खोल दिया जाएगा। इधर गुरुवार को चम्पावत-टनकपुर हाईवे पर आवागमन सुचारू रहा। सुबह के वक्त धौन, स्वाला, चल्थी, बेलखेत के कुछ स्थानों पर मलबा आया, लेकिन उसे समय रहते हटा लिया गया।

गुरुवार को बारिश न होने से मिली राहत

गुरुवार को बारिश का सिलसिला थम गया। जिससे लोगों को बहुत बड़ी राहत मिली। चम्पावत-टनकपुर हाईवे में आवागमन सुचारू रहा। लेकिन जिले की बंद पड़ी 22 सड़कों को दूसरे दिन भी नहीं खोला जा सका। सड़कों को खोलने में हो रही देरी से लोगों का गुस्सा लोनिवि के खिलाफ बढ़ता जा रहा है। बारिश न होने से बंद सड़कों को खोलने के काम में भी रुकावट नहीं आई। लोनिवि के ईई एमसी पलडिय़ा ने बताया कि लोहाघाट क्षेत्र की अधिकांश सड़कों को खोल दिया गया था। लेकिन गुरुवार की रात कई सड़कें मलबा आने से फिर बंद हो गई हैं। बताया कि अधिकांश सड़कें देर शाम तक खोल दी जाएंगी।

धौन-बजौन मार्ग को पहुंचा नुकसान

पिछले दिनों हुई भारी बारिश के चलते पीएमजीएसवाई के अंतर्गत आने वाले धौन-बजौन मोटर मार्ग को भारी नुकसान पहुंचा है। ग्रामीणों ने बताया किबारिश से रोड कई स्थानों पर बह गई है। कई स्थानों पर लगातार भूस्खलन हो रहा है। जिससे आवागमन बाधित हो रहा है। बीडीसी सदस्य जगदीश चन्द्र, ग्राम प्रधान रवीश राम, बद्री दत्त, प्रकाश चन्द्र, प्रेमबल्लभ, विजय कुमार आदि ने पीएमजीएसवाई के ईई को ज्ञापन भेज मोटर मार्ग को जल्द दुरुस्त करनेे की मांग की है।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Prashant Mishra