बागेश्वर, जागरण संवाददाता : जिला मुख्यालय से लगे द्यांगण में एक निजी अस्प्ताल में आपरेशन के बाद मरीज को रेफर करने पर परिजन भड़क गए। उन्होंने अस्प्ताल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया। बगैर बताए मरीज को हायर सेंटर कर दिया। उन्होंने मामले की जांच कर कार्रवाई करने की मांग की। मांग पूरी नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।

गुरुवार को अस्पताल में पहुंची मरीज की साली रजनी का कहना है कि उसके जीजाजी 38 साल के मनोज कुमार पुत्र मोहन राम लौबांज निवासी हैं। उनके किडनी में पथरी की शिकायत थी। तीन दिन पहले उन्हें द्यांगण स्थित हॉस्पिटल में भर्ती किया गया। बुधवार को उनका आपरेशन किया गया। गुरुवार को उन्हें परिजनों को बताए हायर सेंटर रेफर कर दिया। आपरेशन से पहले डाक्टरों ने बताया कि इनका यदि समय पर आपरेशन नहीं हुआ तो किडनी को खतरा हो सकता है। डॉक्टर की राय पर आपरेशन किया। अब मामला गंभीर बता रहे हैं। उनका पहले भी चार बार आपरेशन हो चुका है।

अब डॉक्टर आक्सीजन लेबल कम होने और वेंटीलेटर की बात कर रहे हैं। जब अस्पताल के पास पूरी व्यवस्था नहीं है तो मरीजों का आपरेशन नहीं करना चाहिए। मरीज का पूरा खर्चा अब अस्पताल को उठाना चाहिए। उन्होंने पूरे मामले की जांच करने की मांग की है। इधर, अस्पताल के सर्जन डा. महेंद्र कटारिया ने बताया कि मरीज का आक्सीजन लेबल कम हो गया है। उन्हें वेंटीलेटर में रखा जाना है। परिजनों को इसकी जानकारी दी है। साथ में दो लोग वहां गए हैं। अस्पताल किसी तरह की मनमर्जी नहीं कर रहा है।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Skand Shukla