काशीपुर, जेएनएन : नौ माह के बच्चे के इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए परिजनों ने  हंगामा काट दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने परिजनों से शव का पोस्टमार्टम कराने को कहा, लेकिन परिजन राजी नहीं हुए। जिसके बाद कुछ संभ्रांत लोगों के बीच बातचीत के बाद बच्चे के पिता को इलाज में आया खर्च वापस करने पर समझौता हो गया।

ग्राम सरबरखेड़ा निवासी सद्दाम हुसैन पुत्र सफीक अहमद के नौ माह के बेटे अनस को बुखार आया था। सोमवार को सद्दाम ने बेटे को मुरादाबाद रोड स्थित एक अस्पताल में भर्ती कराया था। मंगलवार सुबह चिकित्सक ने बच्चे की तबीयत खराब होने की बात कहकर मुरादाबाद रेफर कर दिया। जिसके बाद सद्दाम बच्चे को एंबुलेंस से मुरादाबाद ले गया। जहां पर चिकित्सकों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया। इसके बाद परिजनों ने अस्पताल आकर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर हंगामा काटा। साथ ही सद्दाम ने बताया कि उससे इलाज के लिए 15 हजार रुपये जमा कराए गए। जिस समय से बच्चे को भर्ती किया, तब से सुबह तक चिकित्सकों ने उसे देखने नहीं दिया। आरोप है कि एंबुलेंस में आए चिकित्सकों ने भी अस्पताल से निकलते समय बच्चे की नब्ज न चलने की बात कही थी। सूचना पर मौके पर पहुंचे एसएसआइ विनोद जोशी ने बच्चे के पिता से पोस्टमार्टम कराने के लिए कहा तो उन्होंने मना कर दिया। जिसके बाद कुछ संभ्रांत लोगों ने बैठकर मृतक के पिता से बात की। जिसके बाद अस्पताल द्वारा इलाज में आए खर्च का पैसा वापस करने की बात पर समझौता हो गया। एसएसआइ जोशी ने बताया कि पीडि़त पक्ष ने कोई तहरीर नहीं दी। दोनों पक्षों का समझौता हो गया।

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप