लालकुआं, जेएनएन: कोरोना काल मे यात्री गाड़ियों के बंद होने के बाद से घाटे में जूझ रही रेल विभाग को अब माल गाड़ियों समेत अन्य दूसरे संसाधनों से अपनी माली हालत सुधारने का प्रयास कर रही है। इसके ल‍िए रेवले ने प्रयास शुरू कर द‍िए हैं।

बता दें कि कोरोना महामारी के बाद यात्री रेलगाड़ियों का संचालन पूरी तरह प्रभावित रहा है। हालांकि अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के बाद रेल विभाग द्वारा कुछ यात्री गाड़ियों का संचालन किया है। जिनमें से भी कई रेलगाड़ियां यात्रियों की कमी के कारण दोबारा से बंद करनी पड़ी। जिस कारण रेलवे की माली हालत सुधरने का नाम नहीं ले रही है। इधर रेलवे विभाग अब माल गाड़ियों के माध्यम से अपनी आर्थिक स्थिति को सुधारने में लग गया है। जिस क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे इज्जत नगर मंडल की व्यवसाय विकास यूनिट के अथक प्रयासों के फलस्वरूप पहली बार लालकुआं से प्राइवेट पार्टी द्वारा 2784 टन प्रीस्ट्रेस्ड काॅक्रीट स्लीपर का लदान से डीएफएसबी, अम्बाला मंडल, उत्तर रेलवे को भेजने में सफलता प्राप्त हुई। जिससे मंडल को 18 लाख रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ है। उल्लेखनीय है कि अभी तक रेलवे के लालकुआं में बनने वाले स्लीपरों को ट्रकों द्वारा दूसरे राज्यों में भेजा जाता था।

आर्थिकी के साथ दिया जा रहा है सुरक्षा का भी ध्यान

पुरवोत्तर रेलवे माल गाड़ियों से आर्थिक हालात सुधारने के साथ ही कोहरे में गाड़ियों की सुरक्षा के इंतजाम भी कर रहा है। पुरवोत्तर रेलवे के मंडल रेल प्रबंधक आशुतोष पंत ने कहा कि मंडल पर संचालित हो रही मालगाड़ियों को अधिकतम स्वीकृत गति पर चलाया जाए। उन्होंने कहा कि संरक्षित ट्रेन संचलन को कोहरे के समय आने वाली दिक्कतों से निपटने के लिए सभी ट्रेनों में फाॅग सेफ डिवाइस उपलब्ध करा दिए गए हैं। लोको पायलट गाड़ी चलाते समय  मोबाइल एवं ईयरफोन का उपयोग न करें।

टैक्‍स चोरी रोकने को जीएसटी व‍िभाग सक्रिय

रेलवे ने अपनी आय बढ़ाने के ल‍िए माल ढुलान के प्रयास तेज क‍िए हैं, इधर जीएसटी चोरी करने वाले भी सक्रि‍यता को देखते हुए राज्‍य कर व‍िभाग में अलर्ट मोड पर आ गया है। राज्‍य कर व‍िभाग की मोबाइल टीम लगातार सक्रि‍य है। टैक्‍स चाेरी के मामलों को पकड़ने के लि‍ए लगातार चेक‍िंग अभ‍ियान चलाए हुए है।      

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021