जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : Bagh Express निरस्त होने से यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। स्टेशन तक तय समय पर पूरी तैयारी के साथ पहुंचे लोगों को ट्रेन कैंसिल होने की जानकारी मिलने पर हतप्रभ हो गए। अचानक ट्रेन निरस्‍त होने के कारण कुमाऊं के करीब 400 यात्रियों को परेशान होना पड़ा। वहीं रविवार यानी आज भी बाघ एक्सप्रेस निरस्त रहेगी।

पश्चिम बंगाल में भारी बारिश के चलते रेलवे ट्रैक पर पानी भर गया। यात्रियों की सुरक्षा की दृष्टि से हावड़ा से काठगोदाम आने वाली बाघ एक्सप्रेस गाड़ी संख्या 03019 कैंसिल हो गई। ऐसे में काठगोदाम से हावड़ा जाने वाली गाड़ी संख्या 03020 को भी दो दिनों के लिए स्थगित कर दिया गया है। जिसमें एक अगस्त को हावड़ा जाने वाली ट्रेन के बारे में रेलवे प्रशासन ने शुक्रवार की रात ही सूचना प्रसारित कर दी थी। जबकि 31 जुलाई को निरस्त की गई गाड़ी के संबंध में शनिवार दिन में जानकारी दी गई।

अधिकांश यात्रियों को ट्रेन स्थगित होने की जानकारी समय पर नहीं मिल पाई। ऐसे में यात्री शनिवार को तय समय से पहले ही स्टेशन पर पहुंचने लगे। जहां सूचना बोर्ड पर ट्रेन कैंसिल होने की जानकारी मिलते ही लोगों को मायूस होना पड़ा। यात्री आवश्यक कार्य से घर व अन्य गंतव्य तक नहीं पहुंच पाने की चर्चा करते दिखे। इज्जत नगर रेलवे स्टेशन के जनसंपर्क अधिकारी राजेंद्र सिंह ने बताया कि 31 जुलाई व एक अगस्त को बाघ एक्सप्रेस गाड़ी संख्या 03020 कैंसिल रहेगी।

बस स्टेशन पर लगी भीड़

बाघ एक्सप्रेस निरस्त होने की सूचना मिलते ही लोग बस स्टेशन की ओर रुख करने लगे। ऐसे में दिन भर यात्री हल्द्वानी व लालकुआं बस स्टेशन पर पहुंचे। जिससे बरेली, रामपुर, लखनऊ आदि जगहों के लिए लोग बसों से रवाना हुए। लोग टैक्सी का सफर करने पर भी मजबूर हुए। इस तरह सुबह से लेकर देर रात तक लोग बस स्टेशन पर इंतजार करते दिखे।

72 घंटे तक कैंसिल कराएं टिकट

बाघ एक्सप्रेस में कुल यात्रियों की क्षमता करीब 1300 है। जिसमें काठगोदाम, हल्द्वानी, लालकुआं आदि स्टेशनों से करीब 400 यात्रियों ने बुकिंग कराई थी। जो कि स्टेशन पर पहुंचकर टिकट भी कैंसिल करा रहे हैं। मुख्य टिकट निरीक्षक हरीश भाकुनी ने बताया कि ट्रेन डिपार्चर होने से 72 घंटे के अंदर टिकट कैंसिल कराया जा सकता है। जिसके लिए स्टेशन पर अधिक देरी तक टिकट काउंटर भी खोले जा रहे हैं।

मोबाइल फोन पर भेजा मैसेज

बाघ एक्सप्रेस निरस्त होने की सूचना लोगों को मोबाइल फोन पर भी दी गई है। वहीं कई इंटरनेट मीडिया समूहों में भी सूचना प्रसारित की गई। इसके बाद भी लोग ट्रेन कैंसीलेशन से अंजान रेलवे स्टेशन तक पहुंचते रहे। जहां से उन्हें वापस होना पड़ा।

Edited By: Skand Shukla