जागरण संवाददाता, काशीपुर : काशीपुर में संदिग्ध हालात में पेंटर की मौत हो गई। उसका शव ढेला नदी में पर्वतीय कॉलोनी के पास पड़ा मिला। युवक के चेहरे व पेट पर चोट के निशान हैं। स्वजनों ने तीन माह पूर्व हुए कुछ युवकों से विवाद का जिक्र करते हुए हत्या का आरोप लगाया है। पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

कुंडा थाना क्षेत्र के गांव सरवरखेड़ा निवासी 22 वर्षीय मोनू पुत्र मुनाजिर पेंटर था। गुरुवार को पोस्टमार्टम हाउस पर उसके स्वजनों ने बताया कि मंगलवार सुबह 10 बजे वह पेंटर का काम करने के लिए काशीपुर को घर से निकला था, लेकिन वापस नहीं पहुंचा। परिवार वाले लगातार उसकी तलाश कर रहे थे। गुरुवार सुबह पुलिस ने मृतक मोनू के कुछ फोटो इंटरनेट मीडिया पर शेयर किए। फोटो देखकर परिवार वालों के पैरो तले जमीन खिसक गई। वह तुरंत ही मोर्चरी की ओर भागे।

यहां आकर देखा तो शव मोनू का निकला। जिससे परिवार में कोहराम मच गया। स्वजनों ने बताया कि ढेला नदी के पास तीन महीने पहले कुछ लड़कों से मोनू का विवाद हुआ था। उन्हें पूरी आशंका है कि उसकी हत्या की गई है। उसके चेहरे पर चोट के निशान हैं, जिससे हत्या की बात पुष्ट होती है। मृतक के सात भाई रिजवान, आरिफ, जावेद, दानिश, सोनू, सानिब और छोटू है। उसकी बहन रुखसाना की शादी हो चुकी है। मोनू भाईयों में छठे नंबर का था। उसके पिता पल्लेदारी का काम करते हैं। मोनू की शादी नहीं हुई थी।

Edited By: Skand Shukla