जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : उत्तराखंड के चर्चित दशमोत्तर छात्रवृत्ति घोटाले की जांच कर रही एसआइटी की नौ टीमे ऊधमसिंनगर जिले के 153 शैक्षिक संस्थान और उनमें अध्ययन के दौरान छात्रवृत्ति लेने वाले लाभार्थियों की जांच में जुट गई है। जबकि 50 कालेजों की जांच पूरी हो चुकी है। एसआइटी अधिकारियों के मुताबिक जांच और तेज कर दी गई है, जल्द ही इसे पूरी कर लिया जाएगा।

अब तक 60 से अधिक लोग जा चुके हैं जेल

वर्ष, 2011-12 में दशमोत्तर छात्रवृत्ति में अनियमितता मिलने के बाद राज्य के अन्य जिलों के साथ ही ऊधमसिंह नगर में भी एसआइटी का गठन कर जांच शुरू कर दी थी। पहले चरण में जिले के बाहरी राज्यों के 303 शैक्षिक संस्थान और उनमें पढ़ने वाले 3034 छात्रों की जांच की गई। अनियमितता मिलने पर एसआइटी ने 60 से अधिक केस दर्ज कर दो दर्जन से अधिक शिक्षक, बिचौलिए और जिला समाज कल्याण विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

यूएसनगर में 203 कॉलेजों की चल रही है जांच

दूसरे चरण में जिले के 203 सरकारी, अर्द्धसरकारी तथा निजी कालेजों और उनमें छात्रवृत्ति का लाभ लेने वाले सवा लाख छात्र-छात्राओं से पूछताछ शुरू की गई थी। अब तक एसआइटी ने 50 कालेजों की जांच पूरी कर ली है। जबकि जसपुर, काशीपुर, बाजपुर, गदरपुर, रुद्रपुर, किच्छा, सितारगंज, खटीमा और नानकमत्ता के करीब 153 कालेजों की जांच शेष है। इसे देखते हुए अब जिले के इन कालेजों की जांच में तेजी लाने का प्रयास किया जा रहा है, इसके लिए एसआइटी की 9 टीम लगाई गई है। एसपी सिटी ममता बोहरा ने बताया कि 153 कालेजों की जांच शेष है। टीम लगी हुई है, जल्द ही जांच पूरी कर ली जाएगी।

Edited By: Skand Shukla