नैनीताल, [जेएनएन]: हाई कोर्ट ने राष्ट्रीय दृष्टिबाधितार्थ संस्थान देहरादून में संगीत अध्यापक के छात्राओं से यौन शोषण व छेड़छाड़ के मामले में सुनवाई करते हुए अगली तिथि दस अक्टूबर नियत कर दी। सरकार की ओर से कोर्ट को बताया गया कि विवादित निदेशक को हटाकर उनके स्थान पर चेन्नई से नचिकेता की नियुक्ति की गई है, फिलहाल वह अवकाश पर हैं,जल्द कार्यभार ग्रहण करेंगे। 

हाई कोर्ट ने संस्थान में यौन शोषण के मामले में समाचार पत्रों में प्रकाशित खबरों के आधार पर मामले का संज्ञान लिया था। साथ ही हाई कोर्ट बार एसोसिएशन अध्यक्ष ललित बेलवाल को न्याय मित्र नियुक्त किया था। गुरुवार को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजीव शर्मा व न्यायमूर्ति मनोज कुमार तिवारी की खंडपीठ के समक्ष सरकार की ओर से बताया गया कि आरोपित संगीत शिक्षक सुचित नारंग के खिलाफ 29 अगस्त को ही मामला दर्ज कर लिया गया है, उसे सस्पेंड भी कर दिया गया है। 

जिलाधिकारी द्वारा एक नोडल अधिकारी की नियुक्ति की गई है, जो रोज संस्थान की गतिविधियों की जानकारी देंगे। संस्थान के लिए महिला एमबीबीएस डॉक्टर की नियुक्ति भी की जा चुकी है। पॉवर कॉरपोरेशन द्वारा दो माह के लिए किराये पर जनरेटर लिया गया है और नए जनरेटल खरीद की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है। छात्राओं की सुरक्षा की दृष्टिï से एक महिला दारोगा व छह कांस्टेबल की नियुक्ति की जा चुकी है।

बच्चों के लिए तीन खेल मैदान हैं, जो खेलने लायक नहीं हैं, कोर्ट ने तीन माह के भीतर खेल मैदान में सुविधाएं मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं। यह भी बताया गया कि संस्थान में 64 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं मगर क्लासरूम में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं। सरकार की ओर से यह भी बताया गया कि संस्थान में डाइटेशन की सुविधा नहीं है, इसकी व्यवस्था की जा रही है। 

यह भी पढ़ें: एनआइवीएच में यौन शोषण: कमान संभालते ही निदेशक ने किया फेरबदल

यह भी पढ़ें: एनआइवीएच निदेशक को हटाया, राव को प्रभार; जांच रिपोर्ट लेकर अधिकारी रवाना

यह भी पढ़ें: मंत्रालय की टीम पहुंची एनआइवीएच, छेड़छाड़ के खिलाफ दिल्ली में पूर्व छात्र 

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस