नैनीताल, जागरण संवाददाता : नैनीताल में सुबह से ही रही तेज बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। लगातार बारिश के कारण जहां बच्चों को स्कूल जानें में परेशानी हुई वहीं आम लोगों को भी समस्याओं का सामना करना पड़ा।

तेज बारिश के बीच नैनीताल-भवाली रोड पर कैलाखान से करीब सौ मीटर दूर मलबा आने से सड़क बंद हो गई है। जिससे दोनों ओर वाहनों की कतार लग गई है। स्कूली वाहन, पर्यटक के साथ स्थानीय लोग भी रास्ते में फंसे हुए हैं। आपदा कंट्रोल रूम से मिली जानकारी के अनुसार भवाली रोड करीब साढ़े सात बजे से बंद है। भवाली रोड स्लाइडिंग व क्रोनिक जोन हैं, जहां हर बार बारिश में भूस्खलन होता है।

80 सड़कें संवेदनशील, स्लाइडिंग व क्रोनिक जोन चिहि्त

डीएम धीराज गरबर्याल के अनुसार जिले में तीन एनएच, 12 राज्य मार्ग, पांच मुख्य जिला मार्ग, 25 अन्य जिला मार्ग्र 1105 ग्रामीण मार्ग समेत 1214 सड़के हैं। इसमें से 80 से अधिक सड़कें आपदा की दृष्टि से बेहद संवेदनशील हैं। जिले में 23 108 वाहनों को अलर्ट मोड पर रखा गया है।

जिले की सड़कों पर 20 स्थानों पर स्लाइडिंग जोन व 96 स्थान क्राेनिक जोन चिन्हित हैं। क्रोनिक जोन ऐसे स्थान हैं, जहां पत्थर गिरने का भय है या पहले कभी भूस्खलन हुआ है। बकौल डीएम आपदा प्रबंधन के लिए अधिकारियों की जवाबदेही तय है, हर किसी को मोबाइल आन रखना होगा और बिना अनुमति मुख्यालय छोड़ने की अनुमति नहीं होगी।

आपदा प्रबंधन पर सीएम की वीसी आज

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास विभाग तथा मानसून की तैयारियों को लेकर पूर्वाह्न 11 बजे से वीडियो कांफ्रेंसिंग तय है। अपर जिलाधिकारी शिव चरण द्विवेदी ने बताया कि 29 जून को वीडियो कांफ्रेंसिंग कक्ष जिला कार्यालय में आयोजित की गई है। संबंधित अधिकारी सभी सूचनाओं सहित वीसी में स्वयं प्रतिभाग करना सुनिश्चित करें।

बागेश्वर में रात से बारिश जारी है। सुबह आसमान में बादल छाए हैं। लगातार हो रही बारिश के कारण कपकोट मार्ग हरसिला के पास मलबा आने से बंद हो गया है।

यह भी पढ़ें

बागेश्वर में बारिश से बिगड़े हालात, डुगडुगी बजाकर लोगों को जगाया, कई मार्ग बंद, नेटवर्क ध्वस्त, सरयू खतरे के निशान से ऊपर

नैनीताल में तेज बारिश जारी, सीमांत में काली का जलस्तर चेतावनी स्तर से ऊपर

Edited By: Skand Shukla