जागरण संवाददाता, नैनीताल : Nainital Tourism : सरोवर नगरी का पर्यटन फिर से कोविड की चपेट में आ गया है। यहां 60 फीसद सैलानियों की आमद कम हो चली है। एडवांस बुकिंग कैंसिल होने का सिलसिला पिछले एक पखवाड़े से जारी है।

नगर का पर्यटन दो बार पहले ही कोविड की मार झेल चुका है, जिसने पर्यटन की कमर तोड़कर रख दी थी। अब जैसे ही पर्यटन पटरी चढऩे लगा था, मगर तीसरी लहर ने पैर पसारने शुरू कर दिए हैं। इसके चलते दस दिनों से पर्यटकों की आमद में भारी गिरावट आ गई है। नतीजतन इस वीकेंड पर सैलानियों की आमद पिछले वीकेंड की तुलना में आधी कमी आई दर्ज की गई है।

इस वीकेंड पर होटलों में अधिकांश कमरे खाली रहे और रेस्टोरेंट में भीड़भाड़ नदारद रही। पर्यटन स्थल भी वीरान नजर आने लगे हैं। इससे पर्यटन कारोबारी बेहद निराश हैं। नाव चालक, टैक्सी चालक, घोड़ाचालक व आउटडोर फोटोग्राफर्स का काम छिनने लगा है। पर्यटकों के घटने से व्यवसाय 75 फीसद कम हो गया है।

डबल डोज लेने वाले पर्यटकों दी जा रही एंट्री

नैनीताल होटल एंड रेस्टोरेंड एसोसिएसन अध्यक्ष दिनेश चंद्र साह के अनुसार, होटलों के अधिकांश कमरे खाली रहने लगे हैं। हालाकि वह कोरोना वैक्सीन की डबल डोज लेने पर्यटकों को कमरे दे रहे हैं और जो डबल वैक्सीनेट नहीं हैं, उनसे 72 घंटे पहले की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट के साथ कमरे दे रहे हैं। कोविड नियमों का पूरी तरह से पालन कर रहे हैं।

लाकडाउन न लगे, फड़ खोखा व्यापारी कर रहे दुआ

फड़ खोखा व्यापारी नेता जमीर अहमद का कहना है कि कोविड की तीसरी लहर से कारोबार बुरी तरह से प्रभावित होने लगा है। अब वह दुआ कर रहे हैं कि लाकडाउन न लगे। यदि लाकडाउन लग गया तो फड़ खोखा व्यापारी भुखमरी के कगार पर आ जाएंगे।

Edited By: Skand Shukla