नैनीताल, किशोर जोशी : Research on Badri Cow: पहाड़ी नस्ल की बद्री गाय का दूध एकबार फिर शोध में पौष्टिकता में खरा उतरा है। अलबत्ता चिंता बढ़ाने वाला तथ्य यह है कि कुमाऊं अंचल के पांच पहाड़ी जिलों में बद्री गाय की संख्या लगातार कम हो रही है। बद्री गाय का गोमूत्र भी एंटी बैक्टीरियल होता है, साथ ही उसके दूध से बने मट्ठे में कैल्शियम की मात्रा भी खूब पाई जाती है।

इन जिलों में घट रही बद्री गायों की संख्या

कुमाऊं विवि डीएसबी परिसर जंतु विज्ञान विज्ञान विभागाध्यक्ष प्रो सतपाल सिंह बिष्ट के निर्देशन में नैनीताल निवासी मानसी बद्री गाय पर शोध कर रही हैं। शोध में ब्रदी गाय के दूध, दही व छाछ की गुणवत्ता जांचने के साथ ही कुमाऊं के नैनीताल, चंपावत, अल्मोड़ा, बागेश्वर व पिथौरागढ़ जनपद में इन गायों की संख्या, पशुपालकों के बद्री गाय पालने को घटती रुचि आदि पर भी जानकारी जुटाई जा रही है।

मिलावटी नहीं है इस गाय का दूध

समुद्र तल से डेढ़ हजार मीटर से अधिक ऊंचाई वाले इलाकों का मौसम बद्री गाय के लिए बेहद अनुकूल है। शोध के प्रारंभिक नतीजे उत्साहजनक मिले हैं। शोध में पाया गया है कि पर्वतीय इलाकों में बद्री गाय का दूध मिलावटी नहीं है। इस दूध में फैट की मात्रा 8.4 प्रतिशत है, जो भैंस के दूध के बराबर या गायों की अन्य नस्लों में सर्वाधिक है। इसके अलावा टोटल सॉलिड 9.02 प्रतिशत, क्रूड प्रोटीन 3.26 प्रतिशत है। बद्री गाय का घी, दही व छाछ भी पौष्टिक है।

लोकदेवता को अर्पित किया जाता है इसका दूध

पहाड़ में बद्री गाय के दूध को ही लोकदेवता को अर्पित किया जाता है। देशी या जरसी गाय के बढ़ते प्रचलन की वजह से बद्री गाय की संख्या में लगातार कमी आ रही है, लेकिन बद्री गाय का घी आनलाइन कंपनियां पांच हजार रुपये प्रति किलो के हिसाब से बेच रही हैं, जबकि यह गारंटी नहीं है, कि यह घी बद्री गाय का ही है। धार्मिक मान्यता के अनुसार गोदान बद्री गाय का ही किया जाना पवित्र माना जाता है।

संरक्षण के लिए सुझाव

शोध के सुपरवाइजर प्रो. सतपाल बिष्ट के अनुसार, बद्री गाय के संरक्षण के लिए सलेक्टिव ब्रीडिंग विकल्प है। बद्री गाय का गौमूत्र भी एंटी बैक्टीरियल है। नेशनल ब्यूरो आफ एनीमल जैनेटिक रिसोर्स करनाल में 2016 में बद्री गाय को मंजूरी प्रदान की गई थी। बद्री गाय के दूध में पाए जाने वाले ए-टू प्रोटीन से शरीर के भोजन का पाचन आसानी से होता है। जंगल में चरने की वजह से दूध की गुणवत्ता अधिक होती है।

बागेश्वर में किया जा रहा संरक्षण

शोधकर्ता मानसी के अनुसार बागेश्वर में बद्री गाय संरक्षण की योजना पर काम हो रहा है। वहां सौ से अधिक गायों का चयन किया गया है। जबकि चंपावत के नरियाल गांव में इसका फार्म है। ऐसे में पिथौरागढ़, अल्मोड़ा व नैनीताल जनपद के ग्रामीण इलाकों में बद्री गाय के संरक्षण की सख्त जरूरत है।

Edited By: Rajesh Verma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट