हल्द्वानी, जेएनएन : राजस्थान की तरफ से आ रही गरम हवा ने तपिश बढ़ा दी है। सोमवार को तराई-भाबर का अधिकतम तापमान 40 डिग्री के पार पहुंच गया। बढ़ते तापमान से उमस के कारण लोगों का घरों से निकलना मुश्किल हो रहा है। मौसम विभाग ने मई आखिर तक गर्मी से राहत की संभावना से इन्कार किया है। 

बढ़ती गर्मी से मौसम शुष्क बना हुआ है। सुबह से ही तेज गर्मी का अहसास हो रहा है। गर्मी के कारण दोपहर के समय लोग घरों से कम निकल रहे हैं। सोमवार को हल्द्वानी में दोपहर के समय सड़कों पर सन्नाटा दिखा। हालांकि स्कूलों में ग्रीष्मावकाश होने से बच्चों ने राहत की सांस ली है। 

31 मई तक बदलाव के आसार नहीं

चिलचिलाती धूप व लू की मार से फिलहाल राहत मिलती नहीं दिख रही है। गर्मी का आलम अभी जैसा है, वैसा ही कुछ दिन और रहेगा। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र निदेशक बिक्रम सिंह ने अनुसार, मानसून के आगे बढऩे में देरी हो रही है। इसकी वजह से इस बार लोगों को गर्मी की मार कुछ ज्यादा ही झेलनी पड़ सकती है। 31 मई तक हल्द्वानी का अधिकतम तापमान 41 से 42 डिग्री के बीच रहने का अनुमान है।

सोमवार का तापमान (डिग्री सेल्सियस)

स्टेशन       अधिकतम    न्यूनतम 

हल्द्वानी      40.5         18.0

नैनीताल     27.2         18.0

मुक्तेश्वर    27.0         14.3

29 फीसद कम रही प्री-मानसून बारिश

एक मार्च से 31 मई के बीच के समय को प्री-मानसून सीजन के रूप में जाना जाता है। अब तक बीते समय के मुताबिक उत्तराखंड में प्री-मानसून में 29 प्रतिशत कम बारिश हुई है। कुमाऊं में चम्पावत में सामान्य से 65 फीसद, ऊधमसिंह नगर में 56, नैनीताल में 20, अल्मोड़ा में 42, बागेश्वर में 31 फीसद कम बारिश हुई है। पिथौरागढ़ में सामान्य से 3 फीसद अधिक बारिश हुई है। 

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड बार काउंसिल के चेयरमैन का निर्वाचन दोबारा होगा, जानिए क्‍या है कारण

यह भी पढ़ें : छात्रवृत्ति घोटाला मामले में हरिद्वार के पूर्व समाज कल्याण अधिकारी को राहत नहीं

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Skand Shukla